दामोदर नदी किनारे कोयले के अवैध उत्खनन का कार्य इन दिनो जोरो पर चल रहा है
दामोदर नदी किनारे कोयले के अवैध उत्खनन का कार्य इन दिनो जोरो पर चल रहा है
झारखंड

दामोदर नदी किनारे कोयले के अवैध उत्खनन का कार्य इन दिनो जोरो पर चल रहा है

news

धनबाद , 15 अक्टूबर (हि.स.) । धनबाद जिले के महुदा पुलिस अंचल के भाटडीह ओपी क्षेत्र के दामोदर नदी किनारे कोयले के अवैध उत्खनन का कार्य इन दिनो जोरो पर चल रहा है। स्थानीय पुलिस एवंं सीआईएसएफ की लम्बी चौड़ी फौज भी इसे रोक पाने में नाकाम साबित हो रही है। कोयले के अवैध उत्खनन से एक तरफ सरकार को जहां करोड़ो रूपये के राजस्व का नुकसान हो रहा है वहीं इस धंधे में लगे कुछ दबंग किस्म के लोग मालामाल हो रहे हैं। इस धंधे से ज़ुड़े लोगो के अनुसार स्थानीय पुलिस का संरक्षण उन्हें प्राप्त है। इस लिए बेरोक टोक के उनलोगों का धंधा चल रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पहले यह धंधा सिर्फ रात के अंधेरे में होता था, लेकिन अब दिन के उजाले में भी अवैध उत्खनन का कार्य चलता रहता है। कोयले के अवैध उत्खनन के लिए अधिकतर लोग दामोदर नदी के दुसरी तरफ स्थित बोकारो जिले के विभिन्न गांवो से आते हैं। कुछ स्थानीय लोग भी अब अवैध उत्खनन कार्य में लग गये हैं। रात में काटे गये कोयले को बोरा में भरकर टायर के ट्यूब पर लादकर दामोदर नदी के दूसरी तरफ ले जाया जाता है। बोरो की संख्या ज्यादा होने पर उसे नाव से नदी पार किया जाता है। वहीं दोपहर में काटे गये कोयले को शाम के समय अंधेरा होने पर नाव से ले जाता है। कोयले के अवैध उत्खनन के दौरान सुरक्षा प्रबंध नहीं किये जाने के कारण अक्सर दुर्घटनाएं भी होती रहती है। जिसमें अक्सर लोग घायल होने के बाद मौत के मुंह में चले जाते हैं। दुर्घटना होने के बाद मृतक के घरवाले तथा स्थानीय पुलिस भी घटना से इंकार कर देती है। कभी कभी छोटी घटना होने पर भी बड़ी घटना की अफवाह उड़ जाती है। बुधवार को इसी तरह नागदा में दामोदर नदी किनारे स्थित एक अवैध उत्खनन स्थल के समीप गीली मिट्टी गिर गयी थी तो कुछ लोगो ने अफवाह फैला दिया कि घटना में पांच छह लोग दब गये हैं। जबकि सच्चाई यह थी कि जिस स्थल के समीप मिट्टी गिरी थी वहां अवैध उत्खनन का कार्य नहीं हो रहा था। इस सबंध में पुछे जाने पर भाटडीह ओपी प्रभारी हेमन राम ने गुरुवार को कहा कि ऐसी कोई घटना नहीं घटी है। बारिस की वजह से दामोदर नदी का जल स्तर बढ़ा हुआ है जिसकी वजह पूरे क्षेत्र में कहीं भी कोयले का अवैध उत्खनन नहीं हो रहा है। वहीं महुदा पुलिस निरीक्षक राम प्यारे राम ने भी इस तरह की घटना से इंकार किया है। हिन्दुस्थान समाचार / बिमल /विनय-hindusthansamachar.in