झारखण्ड की जनता बड़ी झूठी पार्टी के सच्चाई से भली भांति अवगत है : कांग्रेस
झारखण्ड की जनता बड़ी झूठी पार्टी के सच्चाई से भली भांति अवगत है : कांग्रेस
झारखंड

झारखण्ड की जनता बड़ी झूठी पार्टी के सच्चाई से भली भांति अवगत है : कांग्रेस

news

रांची, 07 सितम्बर (हि. स.)। झारखण्ड की जनता के नाकार दिए जाने के बाद भाजपा नेताओं ने वर्चुअल कार्यसमिति बैठक में राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश की मौजूदा महागठबंधन सरकार के द्वारा सीमित संसाधनों के बावजूद इस महामारी काल मे भी लोगों स्वास्थ्य व्यवस्था को सुदृढ करने में लगी सरकार की नकारात्मक छवि राष्ट्रीय स्तर पर पेश की है। उसे भी झारखण्ड की जनता सिरे से खारिज कर देगी। झारखण्ड कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने सोमवार को कहा कि झारखण्ड की जनता बड़ी झूठी पार्टी के सच्चाई से भली भांति अवगत है। इनके कथनी और करनी के अंतर को भली भांति पहचानती है। इसलिए भाजपाई नेताओं के द्वारा वर्चुअल बैठकों में दिए गए भाषणों का कोई असर झारखण्डी जनमानस पर नही पड़नेवाला है। उन्होंने कहा कि जगत प्रकाश नड्डा को यह बताना चाहिए कि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के द्वारा बड़े पैमाने पर प्राथमिक विद्यालयों को बंद कर झारखण्ड के आदिवासियों मूलवासियों के बच्चों को शिक्षा के अधिकार से वंचित करनेवालों के द्वारा शिक्षा नीति पर वर्कशॉप आयोजित करवाने मात्र से झारखण्डी उन पर कैसे विश्वास करेंगें । रघुवर सरकार में हो या जिन बाबूलाल मरांडी के सहारे झारखण्ड में भाजपा की नैया पार लगाना चाहते हैं उन्होंने सत्ता में रहकर कैसे अपने हक और अधिकार की मांग कर रहे निहत्थे आदिवासियों पर गोलियां चलवायी थी वह भुलाया नही है। आज यही नेता अपने बैठकों में आदिवासी हितों की बात कर उन्हें भरमाना चाहते हैं। झारखण्ड के आदिवासी भाई बहन पुनः इनके झांसे में आनेवाले नहीं हैं। विगत विधानसभा चुनाव में ही उन्होंने इन्हें आईना दिखाने का काम किया था । पूरे कोरोना काल में भाजपाई घरों रहकर सिर्फ और सिर्फ राजनैतिक प्रपंच करते रहे। कभी पत्र लिखने कभी घर पर ही उपवास करना कभी ताली बजाने थाली बजाने अपना समय बिताया। कार्यालय तक बंद रखा और आज कार्यसमिति की बैठक में चाहे राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा हों या फिर प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश दोनों ने पार्टी के चलायमान होने के समर्थन में झूठा आंकड़ा पेश करते हुए एक दूसरे की पीठ थपथपाने का कार्य किया जो हास्यास्पद है। दूसरी तरफ महागठबंधन दल के नेता हों या कार्यकर्ता हमेशा जनता के बीच रहे उनके परेशानियों को दूर करने का प्रयास किया चाहे प्रवासी मजदूर की वापसी हो या फिर मोदी के अनप्लाण्ड लॉकडाउन के कारण परेशानियों से दो चार हो रहे गरीब बेबस बेरोजगार जनता को राहत पहुंचाने की बात हो। यही कारण है कि महागठबंधन के जनप्रतिनिधियों नेता कार्यकर्ता को कोरोना संक्रमित भी होना पड़ा बावजूद इसके कांग्रेस झामुमो राजद के लोग डटे रहे । हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण/विनय-hindusthansamachar.in