झारखंड सरकार के राज्य सचिवालय पर संभावित कोरोना का खतरा, कर्मियों की अविलंब हो कोरोना जाँच : कुणाल
झारखंड सरकार के राज्य सचिवालय पर संभावित कोरोना का खतरा, कर्मियों की अविलंब हो कोरोना जाँच : कुणाल
झारखंड

झारखंड सरकार के राज्य सचिवालय पर संभावित कोरोना का खतरा, कर्मियों की अविलंब हो कोरोना जाँच : कुणाल

news

रांची, 17 जुलाई ( हि.स.) झारखंड सरकार के राज्य सचिवालय में कोरोना संक्रमण प्रसार के संभावित खतरे को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने चिंता जाहिर किया है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक कुणाल षाड़ंगी ने शुक्रवार को सभी कर्मचारियों के सैंपल जाँच कराने की माँग की है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की भयावह स्थिति से सचिवालय और अन्य सरकारी दफ़्तर भी अछूते नहीं है। नगर विकास विभाग में एक व्यक्ति के पॉज़िटिव आने के बाद विभाग को बंद कर दिया गया है लेकिन उस विभाग के आस पास के जो कई और विभाग हैं और उसमें काम करने वाले कर्मचारी और पदाधिकारी हैं उसमें अब डर की स्थिति बनी हुई है, और कहीं न कहीं भारी मानसिक दबाव में काम करने को मजबूर हैं। जिस तरह की सुरक्षा व्यवस्था सचिवालय और अन्य सरकारी दफ्तरों में होनी चाहिए वह नहीं दिख रही है। रोटेशन पॉलिसी के तहत वैसे भी सारे विभाग के स्वीकृत पदों से कहीं कम संख्या में कर्मचारी और पदाधिकारियों से काम लिया जा रहा है किसी भी संचिका पर कई स्तर के पदाधिकारियों के हस्ताक्षर की आवश्यकता होती है किसी एक स्तर के पदाधिकारी के नहीं होने से संचिका के निष्पादन में ज़्यादा समय लग रहा है जिससे प्रक्रिया पूरी होने में देरी हो रही है। सरकार इस ओर अपना ध्यान दे। षाड़ंगी ने कहा कि किसी भी एक व्यक्ति के संक्रमित होने पर पूरे सचिवालय के सभी लोगों के संक्रमित होने का ख़तरा है इसलिए सचिवालय में कार्यरत सभी लोगों का कोरोना टेस्ट किया जाए और नेगेटिव आने के बाद ही उन्हें दफ़्तर में आने की अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि सचिवालय के सभी प्रवेश स्थानों पर कोविड19 से सुरक्षा के तमाम उपाय किए जाए। हिंदुस्थान समाचार /विनय/ सबा एकबाल-hindusthansamachar.in