चर्चित लिपिक के कार्यों के लिए बने जाँच समिति संदेह के घेरे में
चर्चित लिपिक के कार्यों के लिए बने जाँच समिति संदेह के घेरे में
झारखंड

चर्चित लिपिक के कार्यों के लिए बने जाँच समिति संदेह के घेरे में

news

देवघर 12 सितंबर(हि. स.)सिविल सर्जन देवघर डॉ विजय कुमार द्वारा सारवाँ सामुदायिक केंद्र के लिपिक सविता कुमारी के विरुद्ध गठित त्रिस्तरीय जांच समिति की विश्वसनीयता ही संदेह के घेरे में आता जा रहा है। ज्ञात हो कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सारवां की चर्चित लिपिक सविता कुमारी पर लगे आरोपों की जांच के लिए आज तिथि निर्धारित किया गया था किंतु आज उक्त लिपिक के अचानक छुट्टी में चले जाने के कारण जाँच की तिथि आगे बढ़ा दी गई है ।सिविल सर्जन द्वारा जांच समिति को तीन दिनों के अंदर जाँच रिपोर्ट उपलब्ध कराने को निर्देशित किया गया था। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की मानें तो निदेशक द्वारा अनुलग्नकों के साथ भेजे गए आदेश में आवेदन आधार पर जांच के लिए सिविल सर्जन को निदेशित किया गया था।इस बाबत बताया गया है कि कर्मचारियों के खाते से वेतन के पैसे की निकासी लिपिक के द्वारा करके निजी कार्य में उसका उपयोग किया जाता रहा है एवं इनके द्वारा अब तक के ऐसे सभी मामलों की जांच की मांग की गई है । तीन सदस्यीय जांच समिति में शामिल एक चिकित्सक डॉ चित्तरंजन कुमार पंकज पूर्व में कई वर्षों तक सारवां के प्रभारी के रूप में कार्यरत थे और आरोपित लिपिक सविता कुमारी उनके कार्यकाल में भी सारवाँ में पदस्थापित थी। बताया गया है कि सिविल सर्जन द्वारा जांच दल में उक्त चिकित्सा पदाधिकारी को शामिल किए जाने से इस बात को बल मिलता है कि जाँच प्रभावित करने के उद्देश्य से ही ऐसी कमिटी गठित की गई है। हिन्दुस्थान समाचार/चन्द्र विजय/विनय-hindusthansamachar.in