ग्रामीणों ने श्रमदान कर बनाया बोरी बांध
ग्रामीणों ने श्रमदान कर बनाया बोरी बांध
झारखंड

ग्रामीणों ने श्रमदान कर बनाया बोरी बांध

news

खूंटी,16 अक्टूबर (हि.स.)। जल संरक्षण को लेकर जिले की ग्रामसभाओं, जिला प्रशासन एवं सेवा वेलफेयर सोसाइटी द्वारा संयुक्त रूप से चलाए जा रहे जनशक्ति से जलशक्ति आंदोलन से जहां पानी की समस्या से निजात मिल रही है। वहीं सकारात्मक सामाजिक बदलाव भी देखने को मिल रहा है। शुक्रवार को मुरहू एवं अड़की प्रखंड की सीमा पर बसे घोर नक्सल प्रभावित गांव पंगूरा में गांव की महिलाओं एवं पुरुषों ने श्रमदान कर सात घंटे में एक वृहद बोरी बांध का निर्माण कर दिया। बता दें कि यह पंगूरा गांव पीएलएफआइ के इनामी उग्रवादी सनिका ओड़ेया उर्फ चोयता का गांव है, जहां के ग्रामीणों ने बोरीबांध बनाया है। 12 एकड़ में होगी सिंचाई ग्रामीणों ने बताया कि वे धान की कटनी करने के बाद गेंहू और सब्जी की खेती करेंगे। अब उन्हें सिंचाई के लिए सिर्फ पंपसेट की व्यवस्था करनी होगी। बोरी बांध में अब पानी नहीं घटेगा। इससे अब 12 एकड़ जमीन पर सिंचाई हो सकेगी। इन लोगों ने किया श्रमदान मुखिया मुचिराय ओड़ेया, सेवा वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष अजय शर्मा, ग्रामीण सोमा मुंडा, मानकी मुंडा, बीमा कंडीर, डमनी कंडीर आदि ने बोरी बांध बनाने में श्रमदान किया। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/वंदना-hindusthansamachar.in