कोविड- 19 प्रभावित परिवारों व बच्चों के संरक्षण को लेकर कार्यशाला आयोजित
कोविड- 19 प्रभावित परिवारों व बच्चों के संरक्षण को लेकर कार्यशाला आयोजित
झारखंड

कोविड- 19 प्रभावित परिवारों व बच्चों के संरक्षण को लेकर कार्यशाला आयोजित

news

पाकुड़, 10 सितम्बर(हि.स.)। जिला बाल संरक्षण इकाई, एक्शन एड एसोसिएशन, झारखंड यूनिसेफ तथा जन लोक कल्याण परिषद के संयुक्त तत्वावधान में गुरुवार को कोविड-19 से प्रभावित परिवारों और बच्चों के संरक्षण एवं जागरूकता के लिए जिला स्तरीय जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया। मौके पर बतौर मुख्य अतिथि जिला समाज कल्याण पदाधिकारी चित्रा यादव ने कहा कि विभिन्न राज्यों से जिलों में वापस आए प्रवासी मजदूरों का स्किल मैपिंग एवं उनके बच्चे जो कठिन परिस्थिति में रह रहे हैं, उन्हें चिन्हित कर सरकारी योजनाओं से जोड़ने के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं से समन्वय स्थापित किया जाएगा। वहीं श्रमाधीक्षक रंजीत कुमार ने कहा कि प्रवासी मजदूरों के बच्चे जो विद्यालय से बाहर एवं अनामांकित हैं उनका विद्यालय में नामांकन एवं ठहराव आवश्यक है। सभी संबंधित विभागों को समन्वय स्थापित कर कार्य करना होगा। यूनिसेफ झारखंड एवं एक्शन एड एसोसिएशन के राज्य समन्वयक पीयूष सेन गुप्ता ने कहा कि बाल संरक्षण समिति को सक्रिय करना आवश्यक है। अगर यह समिति सक्रिय रहेगी तो बाल संरक्षण से संबंधित कोई भी समस्या ही उत्पन्न नहीं होगी और बच्चों की सुरक्षा,उनके अधिकारों का संरक्षण और कल्याण पर प्रभावी रूप से कार्य किया जा सकेगा। इसके अलावा जिला स्तर पर कार्य कर रहे सरकारी एवं गैर सरकारी संगठनों के बीच समन्वय का होना भी जरूरी है।जिसकी मौके पर जिला समाज कल्याण पदाधिकारी की मौजूदगी में बैठक भी हुई। इसमें बाल संरक्षण के कार्य में लगे जिला बाल संरक्षण इकाई के साथ ही किशोर न्याय बोर्ड ,बाल संरक्षण समिति, बाल देखभाल संस्थान, चाइल्ड लाइन से जुड़े जिला स्तरीय प्रतिनिधि भी मौजूद थे। जिला समाज कल्याण पदाधिकारी ने कहा कि बच्चों के संरक्षण एवं अधिकार एवं उनके बेहतरी के लिए सभी विभागों का आपसी समन्वय बहुत ही आवश्यक है। बच्चों से संबंधित सभी मामलों को संबंधित इकाई को सूचित करना आवश्यक है, ताकि उनके हितों की रक्षा की जा सके। हिन्दुस्थान समाचार/ रवि / वंदना-hindusthansamachar.in