एकीकृत पोषक प्रबंधन के तहत खाद विक्रेताओं को दिया जा रहा प्रशिक्षण
एकीकृत पोषक प्रबंधन के तहत खाद विक्रेताओं को दिया जा रहा प्रशिक्षण
झारखंड

एकीकृत पोषक प्रबंधन के तहत खाद विक्रेताओं को दिया जा रहा प्रशिक्षण

news

रामगढ़, 22 सितंबर (हि.स.) । जिले में एकीकृत पोषक प्रबंधन के तहत खाद विक्रेताओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। मांडू प्रखंड स्थित कृषि विज्ञान केंद्र में 15 दिनों तक चलने वाले इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन शोध केंद्र, प्लांडू के प्रधान डॉ एके सिंह ने किया। कार्यक्रम में जिला कृषि पदाधिकारी राजेंद्र किशोर के द्वारा खाद विक्रेताओं को उचित परामर्श दिया गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम में मंगलवार को शोध केंद्र के प्रधान डॉ एके सिंह ने कहा कि मिट्टी का स्वास्थ स्वस्थ पोषण का आधार है। सही तरीके से उत्पादन की चाह में मिट्टी का प्रबंधन एवं रासायनिक खादों के प्रयोग से मिट्टी का स्वास्थ्य एवं कृषि उत्पादन भी बढ़ती है। उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण सत्र के दौरान हरी खाद का उपयोग, जैविक खाद एवं तरल खाद का प्रयोग, टपक सिंचाई विधि, सुक्ष्म पोषक तत्वों का प्रयोग एवं खाद इस्तेमाल करने के तरीकों के बारे में विस्तृत जानकारी दी जाएगी। जिला कृषि पदाधिकारी ने कहा कि 15 दिवसीय प्रशिक्षण के बाद खाद प्रयोग की तकनीकी दक्षता आ पाएगी, जो कि उर्वरक संबंधी व्यवसाय करने में सहयोग करेगी। कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी डॉ दुष्यंत कुमार राघव ने कहा कि किसानों की आय दोगुनी करने के लिए उपलब्ध संसाधनों का समुचित प्रबंधन करना होगा। कृषि में लागत में कमी लाने के लिए विभिन्न उन्नत कृषि तकनीकों का समावेश आवश्यक है। उर्वरक के उपयोग की सही जानकारी मृदा स्वास्थ्य एवं लागत में कमी के लिए अति आवश्यक है।कार्यक्रम में वैज्ञानिक डॉ इंद्रजीत ने कहा कि प्रशिक्षण 5 अक्टूबर 2020 तक चलेगा। हिन्दुस्थान समाचार/ अमितेश/ वंदना-hindusthansamachar.in