the-youth-of-hiranagar-after-holding-a-press-conference-accused-tehsildar-hiranagar-of-using-abusive-language-and-not-working
the-youth-of-hiranagar-after-holding-a-press-conference-accused-tehsildar-hiranagar-of-using-abusive-language-and-not-working
जम्मू-कश्मीर

हीरानगर के युवाओं ने पत्रकार वार्ता कर तहसीलदार हीरानगर पर अभद्र भाषा का प्रयोग करने और काम ना करने का लगाया आरोप

news

कठुआ, 16 फरवरी (हि.स.)। जिला कठुआ की तहसील हीरानगर के स्थानीय युवाओं ने तहसीलदार हीरानगर पर अभद्र भाषा प्रयोग करने और काम ना करने का आरोप लगाया है। मंगलवार को हीरानगर के युवाओं ने एक पत्रकार वार्ता का आयोजन किया जिसमें युवाओं ने तहसीलदार द्वारा प्रयोग की गई अभद्र भाषा को अपने मोबाइल में रिकॉर्ड कर लिया और पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने रिकॉर्डिंग सुनाई। उन्होंने तहसीलदार हीरानगर पर आरोप लगाते हुए कहा कि ना तो वह लोगों का सही ढंग से काम कर रहे हैं और साथ ही स्थानीय लोगों के साथ अभद्र भाषा का प्रयोग करते हैं। युवा अनिकेत बगोत्रा ने कहा कि तहसीलदार हीरानगर स्थानीय युवाओं के साथ अभद्र भाषा का प्रयोग कर रहे हैं और लोगों के काम भी सही ढंग से नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले कई दिनों से स्थानीय युवा विभिन्न प्रकार के प्रमाण पत्र बनाने के लिए तहसीलदार हीरानगर के कार्यालय में जा रहे हैं, लेकिन तहसीलदार काम करने में आनाकानी करते हैं और साथ ही अभद्र भाषा का प्रयोग करते हैं। उन्होंने कहा कि आज वह अपने ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र बनाने के लिए गए थे जबकि कागजी कार्रवाई भी पूरी कर रखी थी। लेकिन उसके बावजूद भी हीरानगर तहसीलदार काम करने में आनाकानी कर रहे थे और जब उन्हें काम करने के लिए कहा गया, तो वह अभद्र भाषा का प्रयोग करके अपने कार्यालय से बाहर निकालने की धमकी देने लगे, जिसे मोबाइल में रिकॉर्ड कर लिया गया हैं। उनका कहना है कि बीते दिनों भी स्थानीय युवाओं ने तहसीलदार हीरानगर के खिलाफ प्रदर्शन किया था इसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि तहसीलदार सहित उनके कार्यालय में तैनात कर्मचारी कार्यालय में नहीं बैठते हैं और जब भी युवा उनके पास अपने प्रमाण पत्र बनाने के लिए जाते हैं तो काम करने के लिए आनाकानी करते हैं। उन्होंने कहा कि हीरानगर तहसील के अंतर्गत पढ़ते बॉर्डर क्षेत्र के युवा पहले से ही पाकिस्तान की तरफ से होने वाली गोलाबारी से प्रभावित है। वहीं जब सरकार द्वारा बॉर्डर क्षेत्र के युवाओं के लिए कोई योजना लाई जाती है तो उसके लिए संबंधित प्रमाण पत्र के लिए उन्हें तहसीलदार कार्यालय में धक्के खाने पड़ते हैं और इन नौकरशाहों की अभद्र भाषा सुननी पड़ती है। युवाओं ने कहा कि वह कानून की पढ़ाई कर रहे हैं और ला के छात्र के साथ इस प्रकार का रवैया निंदनीय है। उन्होंने कहा कि जम्मू विश्वविद्यालय में जाकर ला छात्र तहसीलदार हीरानगर के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे और उनके तबादले की मांग करेंगे। उन्होंने कहा जम्मू कश्मीर सरकार इन्हें लोगों का काम करने के लिए वेतन देती है लेकिन यह लोग अपनी कुर्सी का नाजायज फायदा उठाते हैं और इसे अपनी जागीर समझते हैं और इस कुर्सी पर बैठकर लोगों का काम करने के बजाय उनके साथ अभद्र भाषा का प्रयोग करते हैं। वहीं युवाओं ने जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से तहसीलदार हीरानगर के तबादले की मांग की है उन्होंने कहा कि हीरा नगर में अच्छा ईमानदार और काम करने वाले तहसीलदार को लगाया जाए। हिन्दुस्थान/समाचार/सचिन/बलवान-hindusthansamachar.in