डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती के उपलक्ष्य पर विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित दी गई श्रद्धाजंलि

डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती के उपलक्ष्य पर विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित दी गई श्रद्धाजंलि
program-organized-at-various-places-to-commemorate-the-birth-anniversary-of-dr-bhimrao-ambedkar

14/04/2021 उधमपुर, 14 अप्रैल (हि.स.)। भारत रतन डाॅ.भीम राव अंबेडकर की जयंती के उपलक्ष्य पर विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित कर उन्हें श्रद्धाजंलि अर्पित की गई। इस अवसर पर उनके बताए मार्ग पर चलने का प्रण लिया गया। बहुजन समाज पार्टी के कार्यालय में जिला प्रधान सुदेश कुमार की अध्यक्षता में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें बाबा साहेब डाॅ. भीम राव अंबेडकर को श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर बहुजन समाज पार्टी के राज्य महासचिव तथा वरिष्ठ नेता सरदार रणजीत सिंह, एडवोकेट महेंद्र अतरी के अलावा काफी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। वहीं सरदार रणजीत सिंह ने इस मौके पर बोलते हुए कहा कि भारतवर्ष को जो संविधान प्राप्त हुआ है यह सब बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर की ही देन है। हमें उनके नक्शे कदम पर चलना चाहिए। वहीं दूसरी ओर आल जम्मू एंड कश्मीर शेड्यूल्ड कास्ट्स वैल्फेयर एसोसिएशन इकाई ऊधमपुर द्वारा यूथ प्रधान सोमराज कुंडल की अध्यक्षता में एक समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें एसोसिएशन उधमपुर जिला के प्रधान मोती राम कुंडल मुख्य अतिथि के रूप शामिल हुए व बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर जी की जीवनी पर अपने विचार साझा किए। एसोसिएशन के यूथ प्रधान सोमराज कुंडल ने भी अपने विचार सांझा करते हुए बताया कि बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर जी ने अपनी जिंदगी में बहुत संघर्ष किए तथा अति पिछड़े वर्ग की लम्बी लड़ाई लड़ी है। देश को लिखित रूप में मजबूत लोकतांत्रिक संविधान दिया, जिसे देश के साथ-साथ आज विदेशों में भी इस जयंती को मनाया जाता है। इसी उपलक्ष्य पर आज हम सभी मिलकर 130वीं जन्म जंयती उत्सव समहारोह अपने एसोसिएशन के कार्यालय में भी सभी कार्यकर्ताओं के सहयोग से बड़ी धूमधाम से मनाया गया है वहीं कार्यक्रम में काफी संख्या में लोग उपस्थित थे। लोगों को संबोधित करते हुए सोमराज कुंडल ने बताया कि बाबा साहेब ने हमेशा एकता भाईचारे और समानता का संदेश दिया है। हम सबको उनके बताए मार्ग पर चलना चाहिए। एक समय हुआ करता था जब महिलाओं पर भी बहुत अत्यचार हुआ करते थे लेकिन बाबा साहेब ने संविधान के माध्यम से महिलाओं को भी समानता के अधिकार दिए। बाबा साहेब ने कभी किसी एक जाति धर्म के लिए नहीं बल्कि देश की समानता और हित्तों की बात हमेशा की है। पिछड़े दलितों तथा मजदूरों की सम्मानता के अधिकारों की लड़ाई लड़ी है और संविधान के माध्यम से उनके अधिकार दिलवाए। इस मौके पर कालू राम, ओम प्रकाश, योग राज, गिरधारी लाल, रोमेश कुंडल, नेक राम, संतोष देवी, साक्षी कुंडल, राज कुमार, अंकुश कुमार आदि काफी संख्या में लोग उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार/रमेश/बलवान