जम्मू-कश्मीर में 1990 के बाद से आतंकवादियों की संख्या 200 से 250 के बीच कैसे सीमित-मीर

जम्मू-कश्मीर में 1990 के बाद से आतंकवादियों की संख्या 200 से 250 के बीच कैसे सीमित-मीर
how-to-limit-the-number-of-terrorists-in-jammu-and-kashmir-between-200-and-250-since-1990

जम्मू, 01 अप्रैल (हि.स.)। प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष जीए मीर ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी हमलों को लेकर केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर में 1990 के बाद से आतंकवादियों की संख्या 200 से 250 के बीच कैसे सीमित है। जम्मू-कश्मीर में सुधरते हालात का दावा करने वाली केन्द्र सरकार आम जनता को गुमराह कर रही है। क्योंकि ऑपरेशन ऑल आउट के बावजूद भी आतंकवादियों की संख्या कम होने का नाम नही ले रही है। केन्द्र सरकार को यह स्पष्ट करना चाहिए कि आखिर उसके दावों के बावजूद भी आतंकियों की संख्या कम क्यों नहीं हो रही। कांग्रेस के जम्मू-कश्मीर के अध्यक्ष मीर ने यह बात जम्मू में आयोजित एक पत्रकार सम्मेलन के दौरान कही। मीर ने बताया कि 31 मार्च तक महंगाई के मुद्दे पर भाजपा सरकार के खिलाफ पार्टी के 100 से अधिक प्रदर्शन हुए। यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। 45 दिन तक चले प्रदर्शनों में पार्टी के पचास हजार के करीब कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लेकर मंहगाई व जम्मू-कश्मीर के लोगों को पेश आ रही मुश्किलों को उजागर किया। अब अगले 10 दिनों में आगे की रणनीति को लेकर फैसला किया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/ बलवान

अन्य खबरें

No stories found.