जमीनी स्थिति का उचित आकलन करने के बाद ही सरकार को निर्णय लेना चाहिए: कविंदर

जमीनी स्थिति का उचित आकलन करने के बाद ही सरकार को निर्णय लेना चाहिए: कविंदर
government-should-take-a-decision-only-after-properly-assessing-the-ground-situation-kavinder

जम्मू, 03 मई (हि.स.)। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री कविंद्र गुप्ता ने प्रशासन के कथित उदासीन रवैये के कारण आम जनता को हो रही समस्याओं पर सोमवार को गंभीर चिंता जताई। कविंदर गुप्ता ने एक बयान में कहा कि ऐसा लगता है कि केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन जमीनी हालात का सही आकलन किए बिना दूरगामी प्रभाव वाले फैसले ले रहा है। पूर्व उपमुख्यमंत्री ने विशेष रूप से विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त रोगियों की समस्याओं पर प्रकाश डाला, जिन्हें नियमित रूप से घर पर ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। इसके अलावा छोटे व्यापारियों के मुद्दे पर भी उन्होंने उठाया जो लॉकडाउन के फैसले से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। कविंदर ने कहा कि हालांकि कोविद-19 रोगियों को ऑक्सीजन की सुचारू आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी रोकने के लिए कुछ सख्त कदम उठाने की आवश्यकता है, लेकिन यह उन रोगियों की कीमत पर नहीं होनी चाहिए जिन्हें अन्य बीमारियों के लिए घर पर ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि उन्हें मंदिरों के शहर में कई लोगों से बार-बार फोन आ रहा हैं कि वे अपने बीमार परिवार के सदस्यों के लिए ऑक्सीजन लाने में असमर्थ हैं, जिन्हें घर पर नियमित रूप से इसकी आवश्यकता होती है। यह लॉकडाउन और ऑक्सीजन निर्माण इकाइयों में सरकार द्वारा तैनात किए गए राजस्व विभाग के अधिकारियों के कारण है जो इस बात पर जोर दे रहे हैं कि केवल कोविद रोगियों के लिए ऑक्सीजन तैयार हो जबकि घर पर बीमार रोगियों को इससे अनावश्यक परेशानी हो रही है जिनको ऑक्सीजन की आवश्यकता है। इसने घर में ऑक्सीजन की आवश्यकता वाले सभी रोगियों के जीवन को खतरे में डाल दिया है और यूटी प्रशासन को इस सबसे महत्वपूर्ण मुद्दे को तत्काल सर्वाेच्च प्राथमिकता पर हल करने की आवश्यकता है। भाजपा के वरिष्ठ नेता ने दोहराया कि सरकार को जमीनी हालात का सही आकलन करने के बाद ही इस महत्वपूर्ण मोड़ पर लोगों के अनुकूल निर्णय लेना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/अमरीक/बलवान