delegation-of-sarpanches-of-block-barnoti-met-district-deputy-commissioner-on-various-issues
delegation-of-sarpanches-of-block-barnoti-met-district-deputy-commissioner-on-various-issues
जम्मू-कश्मीर

ब्लॉक बरनोटी के सरपंचों का प्रतिनिधिमंडल विभिन्न मुद्दों को लेकर जिला उपायुक्त से मिला

news

कठुआ, 23 फरवरी (हि.स.)। जिला कठुआ के ब्लॉक बरनोटी के अधीन पड़ती पंचायतों के सरपंचों का एक प्रतिनिधिमंडल अपनी समस्याओं को लेकर जिला उपायुक्त ओम प्रकाश भगत से मिलने जिला सचिवालय पहुंचा। प्रतिनिधिमंडल में ब्लॉक बरनोटी के विभिन्न पंचायतों के सरपंचों ने जिला प्रशासन के खिलाफ रोष व्यक्त किया। वहीं जिला उपायुक्त ने कांफ्रेंस हाल में सरपंचों के साथ विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की और उनकी समस्याओं को जल्द हल करने का आश्वासन दिया। वही जिला उपायुक्त से मुलाकात के बाद सरपंचों ने पत्रकारों को संबोधित किया। जिसमें सरपंच विकी शर्मा ने बताया कि आज ब्लॉक बरनोटी की विभिन्न पंचायतों के सरपंचों का प्रतिनिधि मंडल जिला उपायुक्त से मिला है। जिसमें सरपंचों को आ रही समस्याओं से उपायुक्त को अवगत करवाया गया है। उन्होंने बताया कि ब्लॉक बरनोटी के अधीन पड़ती विभिन्न पंचायतों के सरपंचों द्वारा करवाए गए पंचायतों में विकास कार्यों का भुगतान नहीं किया जा रहा है। जिससे सरपंचों की परेशानियां बढ़ी हैं। उन्होंने बताया कि 31 मार्च 2020 को प्रशासन द्वारा एक बिल पास किया गया था जिसमें उन्होंने पंचायतों में 30 एमएम की टाइल लगाने के लिए आर्डर पास किया था, लेकिन वह आर्डर सरपंचों तक नहीं पहुंचा। जिसकी वजह से सरपंचों ने अपनी पंचायतों में जितनी भी टाइलें लगवाई हैं वह 15 एमएम की है। जिसको लेकर अब भुगतान के लिए संबंधित विभाग आनाकानी कर रहा है। उन्होंने कहा कि बैक टू विलेज तीन कार्यक्रम के दौरान यूटी सरकार की ओर से सभी पंचायतों को दस लाख देने की घोषणा की गई थी जिसमें सभी पंचायतों के सरपंचों के खातों में बीस हजार की पहली किस्त डाल दी गई थी। इस राशी से सरपंचों को अपनी-अपनी पंचायतों में स्पोर्ट्स किट वितरण करने के लिए कहा गया था। उन्होंने बताया कि जब बीस हजार की पहली राशि उनके खाते में डाली गई तो सरपंचों को लगा कि 9 लाख 80 हजार की बकाया राशि भी उनके खाते में जमा कर दी जाएगी, जिससे वह अपनी पंचायत में विकास कार्य करवाएंगे। वही बैक टू विलेज तीन कार्यक्रम के दौरान जो भी पंचायत वासियों ने अपनी मांगे रखी थी उनमें से ज्यादातर सरपंचों ने अपने पंचायतों में काम शुरु करवा दिए और खत्म भी करवा दिए है। लेकिन अब संबंधित विभाग का कहना है कि पंचायतों में विकास कार्य के टेंडर होंगे उसके बाद विकास कार्य करवाए जाएंगे। सरपंचों का कहना है कि बैक टू विलेज तीन कार्यक्रम के दौरान 256 पंचायतों के सरपंचों ने अपने क्षेत्रों में जो काम करवाए हैं, उन कार्यों का भुगतान आधर में लटक गया है। उन्होंने कहा कि जिन सरपंचों ने अपनी पंचायत में कार्य करवाए हैं उसका भुगतान अब कौन करेगा। उन्होंने कहा कि सरपंच और पंच पंचायत में जमीनी स्तर पर विकास कार्य करते हैं। उन्होंने कहा के सरपंचों ने बीडीसी चेयरमैन बनाए, डीडीसी चेयरमैन बनाए लेकिन जिला प्रशासन को सरपंचों और पंचों को साथ लेकर चलना चाहिए, क्योंकि पंचायतों में विकास कार्य सरपंच और पंच ही करवाते हैं। उन्होंने जिला प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर 1 सप्ताह के भीतर उनकी समस्याओं को हल नहीं किया गया तो जिला कठुआ के अधीन पड़ती 256 पंचायतों के सरपंच धरना प्रदर्शन करेंगे जिसकी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी। हिन्दुस्थान/समाचार/सचिन/बलवान

AD
AD