ऐतिहासिक चाढक हवेली का प्रवेश द्वार व चारदीवारी बिरादरी की संस्था ने तुडवाई
ऐतिहासिक चाढक हवेली का प्रवेश द्वार व चारदीवारी बिरादरी की संस्था ने तुडवाई
जम्मू-कश्मीर

ऐतिहासिक चाढक हवेली का प्रवेश द्वार व चारदीवारी बिरादरी की संस्था ने तुडवाई

news

बड़ी ब्राह्मणा, 24 जुलाई (हि.स.)। पुरमंडल में शिव मंदिर को बनाई जा रही सड़क के चिन्हित क्षेत्र में आने वाले भवनों को तोड़ने के लिए प्रशासन ने लोगों से आग्रह किया है। प्रशासन ने कहा है कि लोग स्वंय इनको हटा लें अन्यथा विभाग द्वारा मशीनों द्वारा यह ढांचे गिराए जाएंगे तो अधिक हानि हो सकती है। इस सड़क में कभी महाराजा प्रताप सिंह द्वारा बनवाई गयी महारानी चाढकां हवेली का कुछ भाग भी आ रहा था जिसको बिरादरी की संस्था ने मजदूर लगाकर शुक्रवार को तुडवा लिया है। चाढ़क वैलफेयर सोसाईटी के अध्यक्ष राकेश चाढ़क राका ने कहा कि विभाग द्वारा लगाए गए निशान तक हमने बीच मंे आ रही चार दीवारी, शौचालय, प्रवेश द्वार हटा लिए हैं। उल्लेखनीय है कि चाढ़क बिरादरी के अधीन इस हवेली रूपी भवन का रखरखाव चाढ़क बिरादरी ही करती है व वर्तमान समीति ने बताया कि भविष्य में इसमें श्रदालुओं के ठहरने, प्रसाद संबंधी योजनाएं अमल में लाई जाएंगी। हवेली परिसर में हवेली का इतिहास तो सड़क बनने के उपरांत पूरे पुरमंडल व देशप्रसिद्द शिव मंदिर, देवक का इतिहास लिखा बोर्ड लगाया जाएगा व महाराजा प्रताप सिंह व महारानी चाढकां की तस्वीर हवेली के अंदर लगाई जाएगी। गौरतलब है कि अन्य बिरादरी या विभाग अगर ऐसे कदम उठाएं तो पुरमंडल का सौंदर्य फिर चमक उठेगा। चाढ़क बिरादरी के प्रधान ने कहा कि बिरादरी को कोई आमदनी का जरिया नहीं हे इसलिए सरकार से भी सहयोग की मांग करेंगे व सदस्य अपनी जेब से खर्च कर हवेली को श्रदालुओं हेतु सुंदर भवन बनाएंगे। हिन्दुस्थान समाचार/अमरीक/बलवान-hindusthansamachar.in