‘अक्षय तृतीया पर कोई भी अच्छा काम करने से काफी बरकत होगी: संत सुभाष शास्त्री‘

‘अक्षय तृतीया पर कोई भी अच्छा काम करने से काफी बरकत होगी: संत सुभाष शास्त्री‘
39doing-any-good-work-on-akshaya-tritiya-will-be-a-great-thing-sant-subhash-shastri39

13/05/2021 उधमपुर, 13 मई (हि.स.)। शुक्रवार को परशुराम जयंती है। प्रतिवर्ष इस दिन उधमपुर के हनुमान मंदिर से परशुराम युवा दल द्वारा शोभायात्रा निकाली का आयोजन किया जाता था परंतु कोरोना महामारी के कारण गत वर्ष भी यात्रा नहीं निकल सकी थी तथा इस बार भी इसके कार्यक्रम को स्थगित कर दिया गया है। इस यात्रा में मुख्य रूप से संत सुभाष शास्त्री जी सम्मिलित होते थे। वहीं संत सुभाष शास्त्री जी ने इस दिन के महत्व को बताते हुए कहा कि शास्त्रों में अक्षय तृतीया को स्वयंसिद्ध मुहूर्त माना गया है। अक्षय तृतीया के दिन मांगलिक कार्य जैसे विवाह, गृहप्रवेश, व्यापार अथवा उद्योग का आरंभ करना अति शुभ फलदायक होता है। सही मायने में अक्षय तृतीया अपने नाम के अनुरूप शुभ फल प्रदान करती है। अक्षय तृतीया पर सूर्य व चंद्रमा अपनी उच्च राशि में रहते हैं। इस वर्ष 2021 में अक्षय तृतीया 14 मई 2021 दिन शुक्रवार को होगा। वैशाख के समान कोई मास नहीं है, सत्ययुग के समान कोई युग नहीं हैं, वेद के समान कोई शास्त्र नहीं है और गंगा जी के समान कोई तीर्थ नहीं है। उसी तरह अक्षय तृतीया के समान कोई तिथि नहीं है। अक्षय तृतीया के विषय में मान्यता है कि इस दिन जो भी काम किया जाता है उसमें बरकत होती है। यानी इस दिन जो भी अच्छा काम करेंगे, उसका फल कभी समाप्त नहीं होगा। अगर कोई बुरा काम करेंगे तो उस काम का परिणाम भी कई जन्मों तक पीछा नहीं छोड़ेगा। उन्होंने बताया कि धरती पर भगवान विष्णु ने 24 रूपों में अवतार लिया था। इनमें छठा अवतार भगवान परशुराम का था। पुराणों में उनका जन्म अक्षय तृतीया को हुआ था। इस दिन धरती पर गंगा अवतरित हुई। सतयुग, द्वापर व त्रेतायुग के प्रारंभ की गणना इस दिन से होती है। शास्त्रों की इस मान्यता को वर्तमान में व्यापारिक रूप दे दिया गया है जिसके कारण अक्षय तृतीया के मूल उद्देश्य से हटकर लोग खरीदारी में लगे रहते हैं। वास्तव में यह वस्तु खरीदने का दिन नहीं है। वस्तु की खरीदारी में आपका संचित धन खर्च होता है। नया वाहन लेना या गृह प्रवेश करना, आभूषण खरीदना इत्यादि जैसे कार्यों के लिए तो लोग इस तिथि का विशेष उपयोग करते हैं। मान्यता है कि यह दिन सभी का जीवन में अच्छे भाग्य और सफलता को लाता है। इसलिए लोग जमीन, जायदाद संबंधी कार्य, शेयर मार्केट में निवेश रीयल एस्टेट के सौदे या कोई नया बिजनेस शुरू करने जैसे काम भी लोग इसी दिन करने की चाह रखते हैं। दीन दुखियों की सेवा करना, वस्त्रादि का दान करना ओर शुभ कर्म की ओर अग्रसर रहते हुए मन वचन व अपने कर्म से अपने मनुष्य धर्म का पालन करना ही अक्षय तृतीया पर्व की सार्थकता है। इस तिथि को चारों धामों में से उल्लेखनीय एक धाम भगवान श्री बद्रीनारायण के पट खुलते हैं। अक्षय तृतीया को ही वृंदावन में श्री बिहारी जी के चरणों के दर्शन वर्ष में एक बार ही होते हैं। हिन्दुस्थान समाचार/रमेश/बलवान ---------

अन्य खबरें

No stories found.