पैंथर्स सुप्रीमो ने लोकतंत्र को बचाने के मिशन के साथ राजनीतिक दलों के सम्मेलन का रखा प्रस्ताव
पैंथर्स सुप्रीमो ने लोकतंत्र को बचाने के मिशन के साथ राजनीतिक दलों के सम्मेलन का रखा प्रस्ताव
जम्मू-कश्मीर

पैंथर्स सुप्रीमो ने लोकतंत्र को बचाने के मिशन के साथ राजनीतिक दलों के सम्मेलन का रखा प्रस्ताव

news

जम्मू, 31 जुलाई (हि.स.)। जम्मू-कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी के मुख्य संरक्षक प्रो. भीम सिंह ने जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र, कानून के शासन तथा जम्मू-कश्मीर में रहने वाले भारतीय नागरिकों को सभी मौलिक अधिकारों की वापसी का आश्वासन देते हुए जम्मू-कश्मीर में एक सर्वदलीय सम्मेलन आयोजित करने का शुक्रवार को प्रस्ताव रखा। पैंथर्स सुप्रीमो ने सभी धर्मनिरपेक्ष-लोकतांत्रिक नेतृत्व के साथ जम्मू-कश्मीर के सभी नागरिकों को मौलिक अधिकार व राजनीतिक स्वतंत्रता की बहाली के लिए बातचीत शुरू की है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में सभी मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों एवं जम्मू-कश्मीर में सक्रिय सभी राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों के नेतृत्व सहित गैर-मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों से भी लोकतंत्र की बहाली, कानून के शासन और भारतीय संविधान द्वारा दिये गये सभी मौलिक अधिकारों के कार्यान्वयन के लिए राजनीतिक आंदोलन का समर्थन करने के लिए जोरदार अपील की। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक आंदोलन शुरू करने की एक साझा रणनीति तैयार करने के लिए राजनीतिक नेतृत्व से अगले सम्मेलन में शामिल होने की अपील की ताकि देश में सभी गैर-भाजपा राजनीतिक दलों का समर्थन प्राप्त हो सके। तथाकथित अनुच्छेद 35-ए को भारत के राष्ट्रपति ने भी हटा दिया था, जो 1954 में जारी केवल एक अस्थायी कानून था। प्रो. भीम सिंह ने जम्मू-कश्मीर के पूरे नेतृत्व से भी अपील की है कि जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र, कानून का शासन तथा भारतीय संविधान में दिये गये सभी मौलिक अधिकारों को साझा करने का प्रत्येक राजनीतिक दल को विशेषाधिकार मिले तथा 1846 में महाराजा गुलाब सिंह द्वारा स्थापित जम्मू-कश्मीर राज्य की बहाली, तथाकथित जनसुरक्षा कानून को तत्काल हटाने के साथ भारतीय संविधान के अध्याय-3 में दिये गये सभी मौलिक अधिकारों की बहाली हो ताकि जनसुरक्षा कानून के तहत बंद सभी राजनीतिक कैदी को मुआवजा के साथ रिहा हों। हिन्दुस्थान समाचार/अमरीक/बलवान-hindusthansamachar.in