कुछ खिदमत सैंटरों पर गोल्ड़न कार्ड बनाने की निर्धारित फीस से अधिक बसूलने पर लोगांे ने जताई नाराजगी
कुछ खिदमत सैंटरों पर गोल्ड़न कार्ड बनाने की निर्धारित फीस से अधिक बसूलने पर लोगांे ने जताई नाराजगी
जम्मू-कश्मीर

कुछ खिदमत सैंटरों पर गोल्ड़न कार्ड बनाने की निर्धारित फीस से अधिक बसूलने पर लोगांे ने जताई नाराजगी

news

उधमपुर, 15 नवम्बर (हि.स.)। भारत सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर प्रदेश में सभी परिवारों को स्वास्थ्य की सुविधा देने हेतु उनके गोल्डन कार्ड बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई है। इस कार्ड को बनाने हेतु खिदमत सैंटरों तथा कुछ अन्य कंप्यूटर सैंटरों को इजाजत दी गई है तथा इसके लिए प्रति व्यक्ति के हिसाब से 30 रूपए फीस निर्धारित की गई। वहीं प्रदेश के लोगों ने इस योजना को लेकर खुशी जताई कि अब उन्हें किसी भी बड़ी बीमारी के उपचार के लिए चिंता करने की कोई जरूरत नहीं होगी तथा उनका 5 लाख का इलाज निःशुल्क हो सकेगा लेकिन कुछ खिदमत सैंटर तथा साइबर कैफे वाले सरकार द्वारा निर्धारित फीस 30 रूपए के वजाए लोगों से प्रति व्यक्ति के हिसाब से 50 से 70 रूपए बसूले जा रहे हैं, जिससे लोगों में इनके प्रति काफी रोष है। इसको लेकर कुछ लोगों का कहना था कि एक तो उनसे फीस अधिक बसूली जा रही है तथा उपर से उनके द्वारा 15 दिन में कार्ड मिलने की बात कहने के बावजूद भी 2-2 महीने गुजर जाने के उपरांत अभी तक लोगों को गोल्ड़न कार्ड नहीं मिल पाए हैं। उनका कहना था कि इसकी जांच होनी चाहिए कि आखिर सच्चाई क्या है ? क्यांेकि लोगों को कार्ड मिलने में देरी हो रही है। वहीं उन्होंने उन खिदमत सैंटरों तथा साइबर कैफों वालों के खिलाफ भी कार्रवाई करने की मांग की कि जो लोगों से निर्धारित फीस से अधिक बसूल रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/रमेश/बलवान --------------------hindusthansamachar.in