एलटीसी का तोहफा स्वागत योग्य, पूर्व सैनिकों और वरिष्ठ नागरिकों के प्रति उदासीनता बंद करें: सैनिक समाज पार्टी
एलटीसी का तोहफा स्वागत योग्य, पूर्व सैनिकों और वरिष्ठ नागरिकों के प्रति उदासीनता बंद करें: सैनिक समाज पार्टी
जम्मू-कश्मीर

एलटीसी का तोहफा स्वागत योग्य, पूर्व सैनिकों और वरिष्ठ नागरिकों के प्रति उदासीनता बंद करें: सैनिक समाज पार्टी

news

जम्मू, 14 अक्तूबर (हि.स.)। सैनिक समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कर्नल एस.एस. पठानिया (सेवानिवृत्त), ने एलटीसी के एवज में नकद देने और केंद्र सरकार के कर्मचारियों को विशेष त्यौहारी एडवांस के रूप में 10000 रुपये देने के केंद्र सरकार के फैसले का बुधवार को स्वागत किया। उन्होंने कहा कि यह उपभोक्ता की मांग को मजबूत प्रोत्साहन प्रदान करेगा और अंत में अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगा। उन्होंने केंद्र सरकार से सशस्त्र बलों के पूर्व सैनिकों और केंद्र व राज्य सरकार के पेंशनरों के प्रति भी समान सहानुभूति दिखाने का आग्रह किया। पठानिया ने कहा कि कोविद-19 के कारण सरकार के पास धन की कमी के बारे में सबको पता है लेकिन इसके बावजूद सरकार प्रोत्साहन पैकेज देने और अर्थव्यवस्था को काफी हद तक पुनर्जीवित करने में सफल रही है। उन्होंने कहा कि अगस्त 2020 का जीएसटी संग्रह, जो लगभग 96000 करोड़ है और यह अगस्त 2019 के लगभग समान ही है जो कि अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने का एक मजबूत संकेतक है। यह एक ज्ञात तथ्य है कि किसी व्यक्ति की आय सेवानिवृत्ति के बाद से कम हो जाती है और वेतन पैकेज और संबंधित भत्तों और विशेषाधिकारों के मामले में सेवारत और सेवानिवृत्त व्यक्तियों के बीच कोई तुलना नहीं होती है। पठानिया ने कहा कि डीए को फ्रीज करने से पेंशनर की आय पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है और उन्हें अपने खर्चों को पूरा करने में मुश्किल हो रही है। एक सैनिक जो कि 36 साल की उम्र में सेवानिवृत्त हो जाता है उसके दो से तीन बच्चे होने पर, बच्चों को शिक्षा, सामाजिक और धार्मिक पहलुओं को शामिल करने के लिए अपने दायित्वों को पूरा करना बेहद मुश्किल लगता है। ऐसे पेंशनभोगियों को डीए पर फ्रीज उठाकर और 19 जनवरी से देय बकाया जारी करके उचित राहत दी जा सकती है। इससे बड़ी संख्या में पैंशनभोगियों को भी उचित और सकारात्मक संदेश जाएगा, जो साठ से ऊपर के हैं और वरिष्ठ नागरिकों की श्रेणी में हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अमरीक/बलवान-hindusthansamachar.in