पर्यटन : एयरो स्पोर्टस गतिविधियों से गुलजार होगी मंडी की वादियां, पराशर और सपेणीधार में पैराग्लाइडिंग को हरी झंडी

पर्यटन : एयरो स्पोर्टस गतिविधियों से गुलजार होगी मंडी की वादियां, पराशर और सपेणीधार में पैराग्लाइडिंग को हरी झंडी
tourism-paragliding-will-be-flagged-off-in-mandi-valleys-parashar-and-sapenidhar-with-aero-sports-activities

मण्डी, 20 जून (हि. स.)। हिमाचल की खूबसुरत वादियों में एयरो स्पोट्र्स की गतिविधियों केलिए मुफीद है। प्रदेश के बीड़ बिलिंग के अलावा अब नए स्थल भी विकसित हो रहे हैं। इसी कड़ी में मंडी जिला में अब पर्यटक पैराग्लाइडिंग का रोमांचक अनुभव ले सकेंगे। पर्यटन विभाग ने मंडी के दो प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों पराशर और सपेणीधार में कॉमर्शियल पैराग्लाइडिंग गतिविधियों को हरी झंडी दे दी है। पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन विभाग मंडी की ओर से बताया गया है कि पराशर और सपेणीधार मंडी जिला के प्रथम अधिसूचित पैराग्लाइडिंग स्थल बन गए हैं। पर्यटन विभाग के निदेशक यूनुस ने इसे लेकर आदेश जारी किए हैं। पूर्व में पर्यटन विभाग की तकनीकी समिति ने द्रंग विधानसभा क्षेत्र के पराशर और सराज विधानसभा क्षेत्र के सपेणीधार का दौरा कर पैराग्लाइडिंग साईट्स का निरीक्षण किया था। कमेटी ने दोनों स्थलों को पैराग्लाइडिंग के लिए मुफीद बताते हुए यहां पैराग्लाइडिंग गतिविधियां शुरू करने की अनुशंसा की थी। इन स्थलों पर कॉमर्शिलयल टैंडल फलाईट्स की अनुमति दी गई है। यहां पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन विभाग के पास पंजीकृत पायलट पैराग्लाइडिंग कर सकेंगे। यहां बीड़-बिलिंग की तरह साहसिक पर्यटन व खेल गतिविधियां तो शुरू होंगी ही, आने वाले समय में इन्हें ओर बढ़ावा देने के प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि पर्यटन विभाग ने बहुत से युवाओं को पैराग्लाइडिंग के लिए प्रशिक्षित किया है, पैराग्लाइडिंग गतिविधियां शुरू से ये युवा बड़े पैमाने पर लाभान्वित होंगे। हालांकि, मंडी जिला की सपेणीधार पैराग्लाइडिंग के लिए मुफीद, पर्यटन विभाग की तकनीकी समिति ने हरी झंडी दे दी है। अब जल्द ही पर्यटक पैराग्लाइडिंग का भी लुत्फ ले सकेंगे। मंडी जिला के सराज विधानसभा क्षेत्र के सपेणीधार को पैराग्लाइडिंग के लिए उपयुक्त पाया गया है। सरकार की मंजूरी मिलते ही यहां बीड़-बिलिंग की तरह साहसिक पर्यटन व खेल गतिविधियां आरंभ होंगी। पर्यटन विभाग की तकनीकी समिति ने सपेणीधार का दौरा कर पैराग्लाइडिंग साईट का निरीक्षण किया था। समिति ने ने सपेणीधार में लैंडिंग और टेक ऑफ साईट को पैराग्लाइडिंग के लिए बिल्कुल मुफीद पाया है। तकनीकी समिति में अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण संस्थान मनाली के निदेशक कर्नल नीरज राणा, वन मंडलाधिकारी गोहर टी.आर.धीमान और राजस्व अधिकारी शामिल थे। वहीं दूसरी ओर पर्यटन विभाग ने बहुत से युवाओं को पैराग्लाइडिंग के लिए प्रशिक्षित किया है। मंडी जिला में उपयुक्त साईट मिलने से अब युवाओं के लिए रोजगार के अवसरों में और बढ़ोतरी होगी। इसके साथ ही सपेणीधार, सैटाधार और जंजैहली के अनछुए पर्यटन स्थलों को विकसित किया जा रहा है। यहां अन्य साहसिक गतिविधियों के लिए भी संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। वहीं, उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि जिला में कॉमर्शियल पैराग्लाइडिंग गतिविधियां शुरू होने से पर्यटन को और बढ़ावा मिलेगा। साथ ही स्थानीय युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर बनेंगे। हिन्दुस्थान समाचार/मुरारी/सुनील

अन्य खबरें

No stories found.