seven-foreign-birds-found-dead-in-pong-lake-figure-of-79-dead-birds
seven-foreign-birds-found-dead-in-pong-lake-figure-of-79-dead-birds
हिमाचल-प्रदेश

पौंग झील में फिर मरे मिले सात विदेशी परिंदे, 79 पंहुचा मृतक पक्षियों का आंकड़ा

news

धर्मशाला, 03 अप्रैल (हि.स.)। कांगड़ा जिला की पौंग झील में प्रवासी पक्षियों के मरने का सिलसिला अभी भी जारी है। शनिवार को भी सात प्रवासी पक्षियों के मरने से इनकी संख्या 79 हो गई है। इस बार पौंग झील में विभिन्न प्रजातियों के प्रवासी पक्षियों की संख्या विभागीय गणना के मुताबिक एक लाख 15 हजार 701 थी जिनमें 113 प्रजातियां शामिल थी। वहीं अभी तक इनमें से 90 प्रतिशत प्रवासी पक्षी वतन वापसी कर चुके हैं। हाल ही में की गई विभागिग गणना के अनुसार 13528 प्रवासी पक्षी ही पौंग झील में रह गए हैं। जिनमें 3700 बार हेडेड गीज व 1200 ग्रे लेग गीज प्रवासी पक्षी पौंग झील में विचरण कर रहे हैं। गौर हो कि इस साल जनवरी महीने में बर्ड फ्लू से पांच हजार प्रवासी पक्षीयों की पौंग झील में मौत हो गई। जबकि मार्च में दोबारा शुरू हुए मौत के सिलसिले में अभी तक 79 प्रवासी पक्षी मर चुके हैं। शनिवार को छह बार हेडेड गीज और एक ग्रे लेग गीज प्रजाति का प्रवासी पक्षी पौंग झील की नगरोटा सूरियां बीट में मृत पाए गए। वन्य प्राणी विभाग हमीरपुर के डीएफओ राहुल रोहाणे ने बताया कि पौंग झील में 10 रैपिड रिस्पांस टीमें सतर्कता बरत रही हैं और मृत प्रवासी पक्षियों को सावधानीपूर्वक डिस्पोज ऑफ किया जा रहा है। मृत प्रवासी पक्षियों की अभी तक जालंधर व भोपाल लैब से रिपोर्ट नहीं आने के कारण स्थित असमंजसपूर्ण बनी हुई है। विभाग ने बर्ड फ्लू की आशंका के चलते एहतियात के तौर पर झील क्षेत्र में पर्यटकों की आवाजाही पर रोक लगा रखी है। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/उज्जवल