कोरोना महामारी से लड़ने में सक्रिय भूमिका निभाएं पंचायती राज संस्थाएं : जयराम ठाकुर

कोरोना महामारी से लड़ने में सक्रिय भूमिका निभाएं पंचायती राज संस्थाएं : जयराम ठाकुर
panchayati-raj-institutions-should-play-an-active-role-in-fighting-the-corona-epidemic-jairam-thakur

शिमला, 12 अप्रैल (हि.स.)। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने सोमवार को मंडी से प्रदेश में तीन स्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के तीन हजार से अधिक प्रतिनिधियों से वर्चुअली बातचीत करते हुए कहा कि सभी निर्वाचित प्रतिनिधियों को आम जन और स्वास्थ्य विभाग के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करके अपने-अपने क्षेत्रों में कोरोना महामारी से लड़ने में राज्य सरकार की मदद करने में एक सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश, दुनिया और राज्य कोरोना महामारी के कठिन दौर से गुजर रहे हैं इसलिए इस वायरस से लड़ने में सरकार का सहयोग करना हम सब का कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि गत वर्ष पंचायती राज संस्थाओं के सभी निर्वाचित प्रतिनिधियों ने कोरोना महामारी की पहली लहर के दौरान इस वायरस से निपटने में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने न केवल फेस मास्क और हैंड सेनीटाइजर बल्कि जरूरतमंदों को राशन और खाने के पैकेट भी वितरित किए। उन्होंने कहा कि इस महामारी की दूसरी लहर अधिक जानलेवा और खतरनाक है इसलिए पंचायती राज संस्थाओं के सभी नव-निर्वाचित प्रतिनिधियों को इस वायरस से निपटने के लिए सक्रियता से कार्य करना चाहिए। जयराम ठाकुर ने कहा कि निर्वाचित प्रतिनिधियों को राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी की गई मानक संचालन प्रक्रियाओं का कड़ाई से पालन करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि निर्वाचित प्रतिनिधियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि संबंधित पंचायतों के सभी लोग कोविड उपयुक्त व्यवहार करें और फेस मास्क का उपयोग करें। उन्होंने कहा कि प्रतिनिधियों को लोगों को सामाजिक, धार्मिक और अन्य कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में एकत्रित न होने के लिए भी जागरूक करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चल रहा है। उन्होंने लोगों को स्वयं को इस वायरस से बचाने के लिए टीकाकरण के लिए आगे आने का आग्रह किया क्योंकि यह वायरस से बचाव में सहायक सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कि निर्वाचित प्रतिनिधियों को होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की मदद और उनके परिवार के सदस्यों के साथ निरन्तर सम्पर्क में रहने को कहा। इससे मरीजों को इस वायरस से लड़ने के लिए प्रोत्साहित करने में सहायता मिलेगी। हिन्दुस्थान समाचार/उज्ज्वल/सुनील