हिमाचल में बर्फबारी-ओलावृष्टि से बागवानी को 280 करोड़ रुपये का नुकसान, सेब को पहुंची सबसे ज्यादा क्षति

हिमाचल में बर्फबारी-ओलावृष्टि से बागवानी को 280 करोड़ रुपये का नुकसान, सेब को पहुंची सबसे ज्यादा क्षति
himachal-suffered-snowfall-hailstorm-loss-of-rs-280-crore-apples-suffered-the-most

बागवानी विभाग ने प्रदेश सरकार को सौंपी नुकसान की रिपोर्ट शिमला, 22 मई (हि.स.)। हिमाचल प्रदेश में बेमौसमी बर्फबारी और ओलावृष्टि से बागवानी को 280 करोड़ का नुकसान हुआ है। अप्रैल महीने में व्यापक बर्फबारी व ओले गिरने से बागवानी विभाग ने 254 करोड़ रुपये के नुकसान का आंकलन किया है। सबसे अधिक नुकसान सेब की फसल को हुआ है। राज्य के सेब बाहुल्य क्षेत्रों शिमला, कुल्लू और चम्बा में बर्फबारी से सेब के बगीचे तबाह हो गए। अप्पर शिमला के नारकंडा, ठियोग, चौपाल और कोटखाई के इलाकों में अप्रैल में 6 से 8 इंच बर्फ गिरी। कई स्थानों पर ओले भी गिरे। सेब के पौधों को ओलों से बचाने के लिए एंटी हेल नेट का इस्तेमाल भी किया जाता है। लेकिन ये भी सेब के पौधों को कुदरत की कहर से नहीं बचा सका। असामयिक बर्फबारी व भारी ओलावृष्टि से सेब के पेड़ टूटने से भी बागवानों को भारी क्षति पहुंची है। सेब उत्पादन के लिए मशहूर शिमला जिला के कुछ सेब बाहुल्य क्षेत्रों में इस समय यही स्थिति है। दरअसल इन क्षेत्रों में जो बर्फ जनवरी में गिरती थी, वो इस बार अप्रैल के तीसरे हफ्ते में गिरी। साथ ही भारी ओलाबारी भी हुई, जिससे नुकसान और बढ़ गया। हिमाचल प्रदेश के बागवानी विभाग के निदेशक जेपी शर्मा ने शनिवार को बताया कि अप्रैल और मई के दो महीनों में बागवानी को 280 करोड़ रुपये के नुकसान का आंकलन किया गया है। विभाग की टीमों ने अप्रैल में 254 करोड़ और मई में अब तक 26 करोड़ के नुकसान का आंकलन किया है। किन्नौर जिला से बागवानी को हुए नुकसान की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। जेपी सिंह ने बताया कि बर्फबारी-ओलाबारी से सेब व अन्य फलों चेरी, पल्म, खुमानी, बादाम आदि को क्षति हुई है। सेब की फसल सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है। विभाग ने नुकसान को रिपोर्ट तैयार कर प्रदेश सरकार को सौंप दी है और अब सरकार को तय करेगी कि प्रभावितों को किस दर से मुआवजा दिया जाना है। इस बीच बागवानी विभाग द्वारा किये गए नुकसान के आंकलन को किसान संघर्ष समिति ने नाकाफी बताया है। समिति का कहना है कि बर्फबारी-ओलाबारी से बागवानी को हुआ वास्तविक नुकसान 280 करोड़ से कहीं अधिक है। समिति के महासचिव संजय चौहान ने बताया कि शिमला, कुल्लू, किन्नौर, मण्डी, लाहौल स्पीति, सोलन, सिरमौर, चम्बा, कांगड़ा में बर्फबारी तथा भारी ओलावृष्टि व वर्षा से फलों व अन्य फसलों को भारी क्षति हुई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश मे अकेले सेब की करीब 70 प्रतिशत फ़सल बर्फ़बारी व भारी ओलावृष्टि से बर्बाद हो गई तथा एक फौरी अनुमान के अनुसार करीब 2000 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान बागवानों को हुआ है। संजय चौहान ने कहा कि किसानों व बागवानों को इस संकट से बाहर निकालने के लिए सरकार को अपने दायित्व का निर्वहन कर तुरन्त उचित मुआवजा प्रदान करना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/उज्ज्वल/सुनील

अन्य खबरें

No stories found.