हिमाचल के सीमावर्ती क्षेत्रों में सुरक्षा को मजबूत बनाने के लिए शिमला, कुल्लू और नूरपुर में बनाई जाएंगी कमांडों युनिट: डीजीपी संजय कुंडू
हिमाचल के सीमावर्ती क्षेत्रों में सुरक्षा को मजबूत बनाने के लिए शिमला, कुल्लू और नूरपुर में बनाई जाएंगी कमांडों युनिट: डीजीपी संजय कुंडू
हिमाचल-प्रदेश

हिमाचल के सीमावर्ती क्षेत्रों में सुरक्षा को मजबूत बनाने के लिए शिमला, कुल्लू और नूरपुर में बनाई जाएंगी कमांडों युनिट: डीजीपी संजय कुंडू

news

धर्मशाला, 25 जुलाई (हि.स.)। प्रदेश पुलिस के मुखिया पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) संजय कुंडू ने कहा कि हिमाचल के सीमावर्ती क्षेत्रों में सुरक्षा को और मजबूत बनाने के लिए शिमला, कुल्लू और नूरपुर में कमांडों युनिट गठित करने के लिए प्रदेश सरकार के समक्ष प्रस्ताव रखा गया है। उन्होंने कहा कि शिमला की बजाय धर्मशाला में डीआईजी इंटेलीजेंस बिठाने का मामला भी सरकार के समक्ष रखा गया है ताकि पठानकोट और पंजाब के साथ लगने वाले सीमावर्ती क्षेत्रों में खुफिया गतिविधियों को और पुख्ता किया जा सके। साइबर अपराध पर नजर रखने व इसे रोकने के मकसद से शिमला के बाद मंडी और धर्मशाला में साइबर थाने खोलने को लेकर भी सरकार को प्रस्ताव दिया गया है। डीजीपी बनने के बाद पहली बार धर्मशाला दौरे पर आए संजय कुंडू ने यह बात पत्रकार वार्ता में कही। उन्होंने कहा कि कांगड़ा जिला की सीमा के साथ लगते पठानकोट क्षेत्र में हुई आंतकी घटनाओं को लेकर हिमाचल पुलिस को और अधिक सशक्त बनाने के लिए भी सरकार से आग्रह किया गया है। डीजीपी कुंडू ने हिमाचल के दो जिलों किन्नौर और लाहौल स्पिति के साथ लगती चीन की 240 किलोमीटर लंबी सीमावर्ती इलाकों में घटती जनसंख्या पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि घटती जनसंख्या सीमावर्ती इलाकों में बदलते घटनाक्रम एक और मुश्किल पैदा कर रही है। सीमावर्ती इलाकों में आम ग्रामीणों के मदद से सीमाओं का निरीक्षण तथा किसी भी तरह के बदलाव पर बारीक जानकारी रखी जा सकती है, लेकिन रोजगार के अभाव में पिछले कुछ वर्षों से ग्रामीण शहरों की ओर माइग्रेट कर रहे हैं। पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू ने हिमाचल सरकार को सुझाव देते हुए कहा कि सीमावर्ती इलाकों में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने से न सिर्फ वहां के ग्रामीणों को रोजगार मिलेगा बल्कि ग्रामीणों की मदद से सीमावर्ती इलाकों में पुलिस तथा सैनिकों द्वारा रखना सीमा की निगरानी भी आसान हो जाएगी। 15 जून को लेह की गलवान घाटी की घटना को लेकर पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू ने कहा कि हिमाचल पुलिस द्वारा 240 किलोमीटर के सीमावर्ती इलाकों का पांच नौजवान आईपीएस अफसरों द्वारा इलाकों का निरीक्षण करवाया गया। जिसकी रिपोर्ट उन्होंने राज्यपाल, राज्य सरकार सहित रक्षा मंत्रालय तथा गृह मंत्रालय को भेजी गई है। रिपोर्ट में दिए गए सुझावों को गृह मंत्रालय रक्षा मंत्रालय से काफी प्रोत्साहन मिला तथा राज्यपाल द्वारा प्रशंसा भी की गई है। संजय कुंडू ने कहा कि इस रिपोर्ट में मुख्यता दो बातों को रखा गया है। पहला पलायन को रोकना तथा दूसरा बेहतर इन्फ्रास्ट्रक्चर डिवेल्प करना प्राथमिकता रहेगी। कुंडू ने बताया कि सितंबर में मनाली से लेह को जोड़ने वाली अटल टनल का उद्घाटन प्रधानमंत्री द्वारा किया जाएगा जिसकी महत्ता भौगोलिक रूप से काफी ज्यादा है। जिसके कारण लेह मनाली कनेक्टिविटी बढ़ जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/सुनील-hindusthansamachar.in