farmers-of-balh-will-participate-in-a-march-rally-with-drums-and-drums
farmers-of-balh-will-participate-in-a-march-rally-with-drums-and-drums
हिमाचल-प्रदेश

ढोल-नगाड़े के साथ एक मार्च की रैली में हिस्सा लेंगे बल्ह के किसान

news

मंडी, 22 फरवरी (हि.स.)। पहली मार्च को हवाई अड्डे के विरोध में निकलने वाली रैली में बल्ह के किसान ढोल नगाड़ों के साथ हिस्सा लेंगे। जन संपर्क अभियान के तहत तीसरे दिन बल्ह बचाओ किसान संघर्ष समिति, टावां गांव की बैठक प्रेम चंद सैनी की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें मुख्यमंत्री द्वारा बल्ह में अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाने के फैसले का किसानों ने विरोध किया तथा एकमत से निर्णय लिया कि 1 मार्च को 11 बजे कंसा मैदान से ढोल-नगाड़ों के साथ रैली में हिस्सा लेंगे। सरकार के एकतरफा फैसले व मुख्यमंत्री द्वारा समिति की अनदेखी व मिलने के लिए समय न देना तथा मांग पत्र एसडीएम बल्ह के माध्यम से माननीय प्रधानमंत्री को भेजा जाएगा। वहीं गांव समिति के प्रधान प्रेम दास चौधरी ने कहा कि एक तरफ राज्य सरकार,भूमि अधिग्रहण कानून 2013 को पूर्णता लागू नहीं कर रही है, पुनस्र्थापन व पुनर्निवासन के बारे चुप है। दूसरी तरफ राज्य के मुख्य मंत्री, हवाई अड्डा में अधिग्रहण की जाने वाली जमीन को उचित मुआवजा देने की बात कर रहे हैं। जबकि प्रस्तावित हवाई क्षेत्र में जमीन के सर्किल रेट इतने कम है कि जमीन कौडिय़ों के भाव जाएगी। जिला प्रशासन द्वारा घोषित सरकल रेट 1.60-6 लाख प्रति बीघा है, जबकि किसान 3 से 4 लाख प्रति बीघा नकदी फसलों से प्रति वर्ष कमा रहा है। समिति सदस्य प्रेम चंद सैनी ने कहा कि बल्ह घाटी में एयरपोर्ट अथॉरिटी द्वारा प्रस्तावित अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा जिसमें 8 गांव एक तरफ ढाबण से कुम्मी और दूसरी तरफ डुगरार्इं से डयोडा तक 3150 मीटर लंबी रनवे जिसमें जमीन लगभग 3500 बीघा और लगभग 2500 मकान, 13000 जनसंख्या इस हवाई पट्टी की जद में आ जाएंगे। अपनी उपजाऊ जमीन जिसमें हर साल लाखों की नकदी फसले उगाते हैं, उसमें पूरी तरह से बेदखल हो जाएंगे। सचिव नंद लाल ने कहा कि हिमाचल सरकार, जिस तरह भारत सरकार किसानों की जमीन/एयरपोर्ट अदानी व अंबानी को देने जा रही है उसी तरह हिमाचल सरकार, बल्ह हवाई अड्डों को भी इनको बेच देगी। हिन्दुस्थान समाचार/मुरारी/उज्ज्वल/सुनील