कैदियों को सुधारने में डी.जी. जेल बने रोल मॉडल : भटनागर

कैदियों को सुधारने में डी.जी. जेल बने रोल मॉडल : भटनागर
dg-to-improve-prisoners-jail-turned-role-model-bhatnagar

धर्मशाला, 28 अप्रैल (हि.स.)। हिमाचल प्रदेश की जेलों व उनमें बंद कैदियों के लिए किए गए सुधारों में डी.जी. जेल सोमेश गोयल का अतुलनीय योगदान रहा है। चाहे फिर वह प्रदेश की जेलों को हाईटेक करना हो या अपने गुनाहों की सजा काट रहे कैदियों को स्वरोजगार से जोड़ना हो। यह बात बुधवार को लाला लाजपतराय जिला कारागार धर्मशाला में उप अधीक्षक जेल विकास भटनागर ने डीजी जेल के 30 अप्रैल को सेवानिवृत्त होने के चलते आयोजित बैठक में कही। धर्मशाला जेल में आयोजित बैठक के दौरान उप-अधीक्षक जेल विकास भटनागर ने कहा कि डी.जी. जेल सोमेश गोयल 1984 के सबसे सीनियर आई.पी.एस. अधिकारी हैं, जिन्होंने 2015 से लेकर अप्रैल 2021 तक डी.जी. जेल पद पर अपनी सेवाएं दी हैं। इतना ही नहीं 1984 से अपने कार्यकाल में विभिन्न पदों पर उत्कृष्ट कार्य के लिए डी.जी जेल सोमेश गोयल ने कई पुरस्कार अपने नाम किए हैं। पहले अंग्रेजों के समय बनी प्रदेश की जेलें कैदियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए न के बराबर थी। लेकिन आज अगर प्रदेश की तमाम जेलों की बात की जाए तो उन्हें हाईटेक बना दिया गया है। इतना ही नहीं प्रदेश की जेलों में खल रही कर्मचारियों की कमी को भी दूर किया गया है। इसके अतिरिक्त डी.जी. जेल सोमेश गोयल द्वारा प्रदेश में नालागढ़, कल्पा, कुल्लू, मंडी व रामपुर में पांच नई जेेलों का निर्माण करवाया है। इसके साथ अगर में बंद कैदियों के प्रति लोगों के नजरिए की बात करें तो उसे भी डी.जी. जेल ने अपने प्रयासों से बदल दिया है। प्रदेश की जेलों में हर हाथ को काम, कार वॉशिंग, नर्सरी, बेकरी, डेयरी फार्म, कारपेंटर का काम, परिजनों से बात करने के लिए इंटरकॉम की सुविधा, कैंटीन सहित ओपन एअर जेल शुरू कर कैदियों को जेल से बाहर काम करने की सुविधा सहित कैदियों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए उन्हें शिक्षा प्रदान करवाए जाने की पहल की उन्होंने ही की है। जेल उप-अधीक्षक विकास भटनागर ने ये भी बताया कि आज धर्मशाला जेल की ओर से डी.जी जेल सुमेश गोयल के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस की गई, जिसमें उन्होंने जेल में स्थापित सोया मिल्क व टोफू यूनिट का उद्घाटन किया। इसके अतिरिक्त 30 अप्रैल को सेवानिवृत्त होने के चलते धर्मशाला जेल द्वारा डी.जी जेल को वर्चुअल फेयरवेल दी गई। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/सुनील