होटल ऐसोसिएशन की मांग, सरकार जल्द खोले मंदिर के कपाट

होटल ऐसोसिएशन की मांग, सरकार जल्द खोले मंदिर के कपाट
demand-for-hotel-association-the-government-should-open-the-doors-of-the-temple-soon

ऊना, 20 जून (हि.स.)। रविवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए होटल एसोसिएशन चिंतपूर्णी के प्रधान संजीव शर्मा ने कहा हिमाचल प्रदेश सरकार को मंदिरों के कपाट जल्द खोलने का निर्णय लेकर धार्मिक पर्यटन पर आश्रित लोगों को राहत देनी चाहिए। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा हिमाचल में आने के लिए नियमों में बदलाव करने के बाद हिमाचल के शिमला, मनाली और धर्मशाला में पर्यटकों ने रुख किया है। जिसके बाद वहां के होटलों में एक बार फिर से काम धंधा शुरू हो गया है परंतु धार्मिक पर्यटन स्थलों जैसे कि चिंतपूर्णी में मंदिर के कपाट ना खुलने के कारण किसी प्रकार की कोई राहत होटल मालिकों को नहीं मिली है। इसलिए प्रदेश सरकार से मांग है कि पिछले वर्ष और वर्तमान वर्ष में ग्रीष्मकालीन धार्मिक पर्यटन गतिविधियां ना होने के कारण होटल मालिकों की आर्थिक दशा पहले से ही ठीक नहीं है। संजीव शर्मा ने कहा कि हिमाचल में अब कोविड-19 के केसों में भारी कमी आई है जिसके कारण प्रदेश सरकार को राहत देते हुए धार्मिक स्थल के कपाट जल्द खोलने चाहिए ताकि धार्मिक पर्यटन पर आश्रित लोगों को राहत मिल सके। इसके साथ ही उन्होंने प्रदेश सरकार से मांग की है कि पिछले दो सीजन खराब होने के कारण होटल मालिकों के पास नकदी की कमी आई है। जिसके कारण होटल मालिक आर्थिक संकट में हैं। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा होटल मालिकों को ऋण लेने के लिए ब्याज में छूट दी गई है परंतु अधिकतर होटल मालिक उस लोन को लेने के लिए पात्र नहीं हो पा रहे हैं क्योंकि उन्होंने पहले से ही लोन ले रखे हैं। इसलिए प्रदेश सरकार से मांग है कि होटल मालिकों को 50000 से लेकर दो लाख तक का कर्जा एक साल बिना ब्याज के तत्काल दिया जाए ताकि होटल मालिक नकदी संकट से जूझ रहे हैं उसका समाधान हो सके। इसके अलावा प्रदेश सरकार डिमांड चार्जेस में दी जा रही छूट को दो महीने के लिए और बढ़ाएं क्योंकि अभी भी होटलों में कारोबार नहीं शुरू हुआ है। हिन्दुस्थान समाचार/विकास/सुनील

अन्य खबरें

No stories found.