हमीरपुर में घरों में आइसोलेट मरीजों की स्थिति पर रोजाना नजर, डीसी ने तय की जिम्मेदारियां

हमीरपुर में घरों में आइसोलेट मरीजों की स्थिति पर रोजाना नजर, डीसी ने तय की जिम्मेदारियां
daily-look-at-the-situation-of-isolated-patients-in-homes-in-hamirpur-dc-set-responsibilities

हमीरपुर, 29 अप्रैल (हि. स.)। घरों में आइसोलेट किए गए कोरोना संक्रमित लोगों की स्थिति और उनके स्वास्थ्य मानकों पर रोजाना नजर रखने के लिए उपायुक्त देबश्वेता बनिक ने फील्ड के डॉक्टरों, स्वास्थ्य कर्मचारियों, स्थानीय आंगनबाड़ी एवं आशा वर्करों की जिम्मेदारियां तय की हैं। इसके अलावा पंचायत जनप्रतिनिधियों का भी सहयोग लिया जाएगा। उपायुक्त ने गुरूवार को बताया कि होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमितों के स्वास्थ्य मानकों की जानकारी दिन में कम से कम दो बार लेने तथा मोबाइल फोन के माध्यम से उनका हाल पूछने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि फील्ड के डॉक्टरों को मरीजों की जिम्मेदारी दी गई है। ये डॉक्टर अपने-अपने क्षेत्रों के मरीजों से दिन में कम से कम एक बार मोबाइल फोन पर बात करेंगे तथा एक दिन में अपने क्षेत्र के कम से कम एक-तिहाई मरीजों के घर जाकर उनके स्वास्थ्य मानकों की जानकारी लेंगे। स्वास्थ्य कर्मचारियों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं या आशा वर्करों को दिन में कम से कम एक बार सभी मरीजों के घर जाना होगा तथा मरीजों के स्वास्थ्य मानकों की रिपोर्ट देनी होगी। उपायुक्त ने बताया कि बुधवार शाम तक जिला में घरों में आइसोलेट किए गए कोरोना पॉजीटिव लोगों की संख्या 1341 थी। इन सभी लोगों को घरों में ही दवाईयां और डॉक्टरी सलाह उपलब्ध करवाने के लिए फील्ड के डॉक्टरों और अन्य कर्मचारियों की जिम्मेदारी तय की गई है तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी के माध्यम से इनकी रोजाना रिपोर्ट भी तलब की जा रही है। उपायुक्त ने बताया कि जिला आयुर्वेदिक अस्पताल में स्थापित जिला कोविड स्वास्थ्य केंद्र की क्षमता बढ़ाकर 100 कर दी गई है। वीरवार दोपहर तक यहां 68 मरीज दाखिल थे, जिनमें से 58 को ऑक्सीजन भी लगाई गई है। उपायुक्त ने कोरोना से संबंधित किसी भी तरह की अपुष्ट एवं भ्रामक खबरों और अफवाहों पर विश्वास न करने का आग्रह भी किया है। हिन्दुस्थान समाचार/सुनील/उज्जवल