बस किराया बढ़ोतरी पर माकपा लाल, शिमला में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन
बस किराया बढ़ोतरी पर माकपा लाल, शिमला में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन
हिमाचल-प्रदेश

बस किराया बढ़ोतरी पर माकपा लाल, शिमला में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

news

शिमला, 23 जुलाई (हि.स.)। माकपा की शिमला शहरी कमेटी ने बस किराया में की गई 25 फीसदी वृद्धि व न्युनतम किराया सात रुपये करने के खिलाफ गुरुवार को जिला उपायुक्त कार्यालय शिमला के बाहर धरना प्रदर्शन किया। माकपा ने प्रदेश सरकार से आर्थिक बोझ लादने के इस निर्णय को तुरन्त वापिस लेने की मांग की। माकपा के शिमला शहरी सचिव बलबीर पराशर ने बताया कि सरकार ने जब 100 प्रतिशत सवारियों को लेकर बसे चलाने की इजाज़त दे दी है तो बस किराया वृद्धि का निर्णय बिल्कुल भी तर्कसंगत व न्यायसंगत नहीं है। उन्होंने कहा कि कोविड19 के चलते सरकार द्वारा लॉकडाउन व कर्फ्यू के कारण आज देश व प्रदेश में करीब चार माह पूरे होने जा रहे है और इस दौरान लगभग हर क्षेत्र प्रभावित हुए हैं जिसके चलते बड़े पैमाने पर रोजगार समाप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि इस विषम परिस्थिति में जनता सरकार से राहत की दरकार कर रही है। परन्तु ऐसे निर्णयों से राहत तो दूर सरकार ने लॉकडाउन के दौर में भी राशन, पानी, बिजली, डीज़ल, पेट्रोल, प्रॉपर्टी टैक्स, मालभाड़ा, कूड़ा उठाने की फीस आदि में वृद्धि कर जनता पर आर्थिक बोझ डालने का काम ही किया है। उन्होंने कहा कि बस किराया वृद्धि को तुरंत वापिस ले और राशन व बिजली में दिए जा रहे उपदान की कटौती तथा पानी, प्रॉपर्टी टैक्स, कूड़े आदि की फीस में की गई वृद्धि भी वापिस ली जाए। उन्होंने चेताया कि यदि सरकार इन जनता पर आर्थिक बोझ लादने वाले निर्णयों को वापिस लेकर राहत प्रदान नहीं करती तो माकपा इस जनविरोधी निर्णय के विरुद्ध प्रदेशव्यापी आंदोलन चलायेगी। हिन्दुस्थान समाचार/उज्ज्वल/सुनील-hindusthansamachar.in