तिब्बत में आए भूकम्प के लिए चीन सरकार की महत्वकाक्षाएं जिम्मेदार : यशी फुंत्सोक

तिब्बत में आए भूकम्प के लिए चीन सरकार की महत्वकाक्षाएं जिम्मेदार : यशी फुंत्सोक
chinese-government39s-critical-responsibilities-responsible-for-the-earthquake-in-tibet-yashi-phuntsok

धर्मशाला, 22 मई (हि.स.)। तिब्बत में आए जोरदार भूकम्प के लिए धर्मशाला स्थित निर्वासित तिब्बत सरकार के डिप्टी स्पीकर आचार्य यशी फुंत्सोक ने चीन को जिम्मेदार ठहराया है। यशी का कहना है कि चीन ने जिस तरह से अपनी महत्वकाक्षाओं को पूरा करने के लिए तिब्बत के पर्यावरण के साथ खिलवाड़ किया है, यह उसी का ही नतीजा है। उन्होंने पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि चीन के खाने के दांत और दिखाने के और हैं। चीन हमेशा ही विश्व पर्यावरण अधिवेशन में बतौर सदस्य शिरकत करता है, मगर तिब्बत को लेकर कभी सही आंकड़े नहीं दिखाता। ठीक वैसे ही तिब्बत में आधी रात को इतनी तेज गति से आये भूकम्प में कितना जानी नुकसान हुआ है इसकी भी तस्वीर अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाई है। जबकि दुनिया में ऐसे बेहद कम देश हैं जहां की खबरें तुरंत प्रसारित न होती हों। यशी ने कहा कि चीन इसलिए भी इस प्राकृतिक आपदा के लिये जिम्मेदार है क्योंकि उसकी ओर से तिब्बत के पर्यावरण का अपनी महत्वकांक्षाओं की पूर्ति के लिये इतना दोहन किया है कि अब वहां की जलवायु भी अंदर ही अंदर से खोखली हो चुकी है। यही वजह है कि गाहे-बगाहे तिब्बत में प्राकृतिक आपदायें घटित होती ही रहती हैं जिसमें न जाने कितने ही लोग जान गंवा देते हैं मगर उनकी सही रिपोर्ट भी दुनिया तक नहीं पहुंच पाती क्योंकि चीन ऐसा होने नहीं देता है। उन्होंने कहा कि चीन की इस ओच्छी हरकत से आज तिब्बत का बच्चा-बच्चा परेशान है। यशी फुंत्सोक ने कहा कि बीती रात डेढ़ बजे आये भूकम्प के कारण भी वहां के लोगों को बेतहाशा परेशानी का सामना करना पड़ा है। बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक को बदहवाश होकर जान बचानी पड़ी है, बावजूद इनके वहां कितना नुकसान हुआ है इसकी अभी भी सटीक जानकारी नहीं मिल पा रही जिसके लिये सिर्फ और सिर्फ चीन सरकार का खौफनाक रवैया जिम्मेदार है। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/सुनील