संयुक्त राष्ट्र के प्राीमियर मानवाधिकार निकाय में चीन की जीत पर निर्वासित तिब्बती सरकार का बड़ा आरोप
संयुक्त राष्ट्र के प्राीमियर मानवाधिकार निकाय में चीन की जीत पर निर्वासित तिब्बती सरकार का बड़ा आरोप
हिमाचल-प्रदेश

संयुक्त राष्ट्र के प्राीमियर मानवाधिकार निकाय में चीन की जीत पर निर्वासित तिब्बती सरकार का बड़ा आरोप

news

धर्मशाला, 15 अक्टूबर (हि.स.)। संयुक्त राष्ट्र के प्राीमियर मानवाधिकार निकाय में चीन के सीट जीतने पर धर्मशाला स्थित निर्वासित तिब्बती सरकार ने इसे बेहद दुखद करार दिया है। निर्वासित तिब्बती संसद के डिप्टी स्पीकर आचार्य यशी फुंचोक ने चीन के चयन पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि मानवाधिकारों का सरेआम उल्लंघन करने वाले चीन ने इस सीट को पाने के लिए कुछ सदस्यों देशों को गुमराह कर खरीदा है। उन्होंने कहा कि जिन देशों ने चीन का सहयोग दिया है उन्होंने सीधे-सीधे मानवाधिकार का उल्लघंन करने वाले देश का साथ दिया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि ऐसा भी हो सकता है कि चीन ने अपने सहयोग के लिए साथ देने वाले देशों को पैसे देकर खरीदा हो, क्योंकि चीन ऐसा पहले भी से करता आया है। यशी ने कहा कि तमाम सक्रिय समूहों के विरोध के बावजूद चीन संयुक्त राष्ट्र के प्राीमियर मानवाधिकार निकाय के चुनाव में जीत मिलना काफी हैरानी वाला और चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि चीन का तिब्बत सहित उसके अन्य नियंत्रण वाले देशों में मानवाधिकारों की क्या हालत है। तिब्बत में किस तरह से चीन मानवाधिकारों का सरेआम उल्लंघन करता है, यह किसी से छिपा नही है। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/सुनील-hindusthansamachar.in