संयुक्त कानूनगो एवं पटवारी महासंघ ने नई तबादला नीति का किया विरोध, मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन
संयुक्त कानूनगो एवं पटवारी महासंघ ने नई तबादला नीति का किया विरोध, मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन
हिमाचल-प्रदेश

संयुक्त कानूनगो एवं पटवारी महासंघ ने नई तबादला नीति का किया विरोध, मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

news

धर्मशाला, 22 सितम्बर (हि.स.)। संयुक्त कानूनगो एवं पटवारी महासंघ जिला कांगड़ा ने प्रदेश की तबादला नीति बनाए जाने पर कड़ा आक्रोश जताया है। तबादला नीति के विरोध में महासंघ ने मंगलवार को जिला राजस्व अधिकारी के माध्यम से प्रदेश सरकार व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को ज्ञापन भेजा है। ज्ञापन में जल्द से जल्द तबादला नीति को रद्द किए जाने व पुरानी प्रणाली को यथावत रखने की मांग उठाई है। महासंघ के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री को भेजे गए ज्ञापन में कहा है कि राजस्व विभाग में सेवाएं प्रदान कर रहे कानूनगो व पटवारी की समस्याओं से संबंधित कई ज्ञापन भेजे गए हैं, लेकिन अब तक मांगों पर कोई विचार नहीं हुआ है। उनका कहना है कि वर्तमान में भी आम लोगों के कई कार्य ऑनलाइन किए जाने का प्रयास किया जा रहा है, जबकि इसके लिए संसाधन उपलब्ध नहीं है। इसके विपरीत कानूनगो व पटवारी के तबादलों की एक तरफा नीति बना दी गई है, जो कि न्याय संगत नहीं है। महासंघ के पदाधिकारियों में अध्यक्ष अजय पठानिया, वरिष्ठ उपाध्यक्ष गोपाल राही, कोषाध्यक्ष अरुण वाला व अन्य पदाधिकारियों ने कहा है कि जल्द से जल्द नीति को रद्द कर पुरानी व्यवस्था को बहाल किया जाए। साथ ही उन्होंने कोरोना संक्रमण से होने वाली मृत्यु पर पटवारी की डयूटी लगाए जाने का भी विरोध किया है। उन्होंने सरकार को चेतावनी दी है कि उनकी मांग पर विचार न करने पर अपने निजि संसाधनों का प्रयोग बंद करने सहित अतिरिक्त कार्यों का पूरी तरह से बहिष्कार करेंगे। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र-hindusthansamachar.in