विहिप ने प्रदेश सरकार की कार्यशैली पर उठाए सवाल
विहिप ने प्रदेश सरकार की कार्यशैली पर उठाए सवाल
हिमाचल-प्रदेश

विहिप ने प्रदेश सरकार की कार्यशैली पर उठाए सवाल

news

मंडी, 17 सितम्बर (हि.स.)। विश्व हिंदू परिषद ने प्रदेश सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए हैं। गुरुवार को मंडी में पत्रकारों से वार्ता करते हुए विश्व हिंदू परिषद के प्रदेशाध्यक्ष लेख राज राणा ने हिंदू समाज की कुछ समस्याओं को लेकर सरकार की कार्यशैली पर असंतोष व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि गोवंश संरक्षण व संवर्धन की दिशा में सरकार के दावे धरातल पर नहीं दिखाई दे रहें है। मंदिरों व शराब की बोतलों पर टैक्स से भी धन एकत्रित किया गया, किंतु गाय अभी भी सडक़ों पर घूम रही हैं। गायों की दुर्दशा हो रही है। धर्मांतरण व लव जिहाद के मामले निरंतर प्रदेश में बढ़ रहे है। किंतु सरकार अपने द्वारा बनाए हुए धर्म स्वतंत्र विधेयक 2019 को लागू करने में भी हिचकिचा रही है। सरकार की नाक के नीचे छोटे शिमला थाना में लव जिहाद व धर्मातरण के तीन मामले दर्ज हुए। परंतु प्रशासन उस पर कार्रवाई करने की बजाय आरोपितों को बचाने में रुचि ले रहा है। यह स्थिति पूरे प्रदेश की है। राणा ने कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय मुख्यमंत्री के आदेशों को मनवाने मेँ ही अक्षम प्रतीत होता है। उन्होंने आश्चर्य व्यक्त करते कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा मंजूर किए गए कार्यों की भी फाइलें मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारी 5- 6 महीने तक दबाकर रखते हैं। प्रशासनिक अधिकारियों के सामने अधिकांश मंत्री बेचारे बन गए हैं। सरकार के अधिकारी जनता के पैसे से गाड़ी के वीआईपी नंबर के लिए लाख रुपये देकर दुरुपयोग कर रहे हैं तथा जनहित के कार्य के लिए आर्थिक मंदी पड़ी है और सड़काें के बुरे हाल हैं। प्रांत अध्यक्ष राणा ने जहां सरकारी अधिकारियों को समय-समय पर परिषद् द्वारा उठाए गए जनहित के मुदों को प्राथमिकता देने की चेतावनी दी है। प्रदेश के मुख्यमंत्री से भी आग्रह किया कि अपने कार्यालय व अन्य सभी विभागों की कार्यप्रणाली की समीक्षा करके उन्हें दुरुस्त करें। हिन्दुस्थान समाचार/मुरारी-hindusthansamachar.in