मनरेगा के तहत अब बनेंगी पशुशालाएं और पक्के रास्तों की होगी मरम्मत: पंचायती राज मंत्री
मनरेगा के तहत अब बनेंगी पशुशालाएं और पक्के रास्तों की होगी मरम्मत: पंचायती राज मंत्री
हिमाचल-प्रदेश

मनरेगा के तहत अब बनेंगी पशुशालाएं और पक्के रास्तों की होगी मरम्मत: पंचायती राज मंत्री

news

ऊना, 05 नवम्बर (हि.स.)। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, मत्स्य, कृषि व पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा है कि अब पशुशालाओं के निर्माण के लिए भी मनरेगा के तहत सरकार मदद प्रदान करेगी। इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं। नए आदेश के तहत पशुशालाएं बनाने को पंचायत एक लाख रुपये तक खर्च कर सकती हैं। मंत्री कंवर ने कहा कि अभी तक मनरेगा के तहत पशुशालाएं बनाने को अनुमति नहीं थी। उन्होंने कहा कि जल संग्रहण टैंक के निर्माण की राशि को भी बढ़ा कर 1.50 लाख रुपये खर्च करने की अनुमति दे दी गई है। अगर बड़ा टैंक बनाने के लिए लागत बढ़ती है, तो अतिरिक्त खर्च का वहन लाभार्थी को करना होगा। उन्होंने बताया कि अब पहले से बने पक्के रास्तों की मरम्मत करने के लिए भी मनरेगा की गतिविधियों में शामिल कर लिया गया है, इसके तहत एक वित्तीय वर्ष में एक वार्ड या एक गांव में केवल एक ही रास्ता पक्का होगा। इसके अलावा निर्माण स्थल के समीप पड़ने वाले घर के साथ डंगा लगाने के लिए मनरेगा के तहत खर्च की सीमा 35 हजार रुपये से बढ़ाकर 50 हजार रुपये कर दी गई है। मंत्री कंवर ने कहा कि मनरेगा के तहत नई गतिविधियों को जोड़ने का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में आधारभूत ढांचा सुदृढ़ करना है। कंवर ने कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 के तहत प्रदेश को मनरेगा के तहत 2.75 करोड़ कार्य दिवस सृजित करने का लक्ष्य रखा गया है, लेकिन वित्त वर्ष के पहले पांच माह में ही दो करोड़ से अधिक कार्य दिवस सृजित किए जा चुके हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सुनील-hindusthansamachar.in