बलात्कार का प्रयास के दोषी को पांच साल की कैद व पंद्रह हजार रूपए जुर्माने की सजा
बलात्कार का प्रयास के दोषी को पांच साल की कैद व पंद्रह हजार रूपए जुर्माने की सजा
हिमाचल-प्रदेश

बलात्कार का प्रयास के दोषी को पांच साल की कैद व पंद्रह हजार रूपए जुर्माने की सजा

news

मंडी, 05 नवम्बर (हि. स.)। जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके शर्मा की अदालत ने बलात्कार के प्रयास का आरोप साबित होने पर दोषी को पांच साल के कठोर कारावास और पंद्रह हजार रूपए के जुर्माने की सजा सुनाई है। जिला न्यायवादी कुलभूषण गौतम ने बताया कि पीडि़ता के भाई ने 18 दिसंबर 2017 को जोगिंद्रनगर थाना में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि उसकी बहन जो गूंगी, बहरी और अनपढ़ है। उनकी माता की मृत्युहो चुकी है,उनके पिता दिल्ली में चालक का काम करते हैं और वह स्वयं भी दिल्ली में रह कर पढ़ाई करता है। जबकि उसकी बहन गांग के किसी के रिश्तेदार के पास रहती है। 17 दिसंबर 2017 की रात को वह चूल्हे के पास आग सेंकने बैठा था, और पीडि़ता को उसने उसके कमरे में सुला दिया था। रात दस बजे वह पीडि़ता के कमरे के पास गया तो देखा कि उसके कमरे का दरवाजा खुला है और दोषी जो रिश्ते में शिकायतकर्ता का चचेरा भाई लगता है पीडि़ता के साथ बलात्कार की कोशिश कर रहा था। इस बारे में थाना जोगिंद्रनगर में प्र.मू.रि. 222/17 के तहत मामला दर्ज हुआ। मामले की छानबीन उप निरीक्षक केहर सिंह ने अमल में लाई और छानबीन के बाद माननीय अदालत में आरोप पत्र दायर किया गया। अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी उप जिला न्यायवादी चानन सिंह और बाद में उप जिला न्यायवादी विनय वर्मा ने की। इस मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से अदालत में 19 गवाहों के बयान कलमबंद करवाए गए। अभियोजन पक्ष और बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने फैसला सुनाया कि पीडि़ता के साथ बलात्कार के प्रयास का दोष साबित हुआ है। मामले में अदालत ने आरोपी दीपक पुत्र बनी चंद निवासी गवाला डाकघर लडभड़ोल को भारतीय दंड संहिता की धारा 376/ 511 के तहत पांच साल का कठोर कारावास और पंद्रह हजार रूपए जुर्माने की सजा सुनाई है। हिन्दुस्थान समाचार/मुरारी/सुनील-hindusthansamachar.in