जोखिम क्षेत्र के दायरे से बाहर हुआ शिमला का बालूगंज बाजार, आवाजाही शुरू
जोखिम क्षेत्र के दायरे से बाहर हुआ शिमला का बालूगंज बाजार, आवाजाही शुरू
हिमाचल-प्रदेश

जोखिम क्षेत्र के दायरे से बाहर हुआ शिमला का बालूगंज बाजार, आवाजाही शुरू

news

शिमला, 23 जुलाई (हि.स.)। कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद जोखिम क्षेत्र (कंटेन्मेंट जोन) बनाए गए राजधानी के बालूगंज बाजार को अब इससे मुक्ति मिल गई है। बीते पांच दिन में संक्रमण का नया मामला न आने के चलते बाजार से प्रतिबंध हटा दिए गए हैं। अब बाजार में लोग दोबारा से सामान्य तरह से आवागमन कर सकेंगे। बाजार के दोनों और लगाए गए पुुलिस नाके हटा दिए गए हैं तथा वाहन व लोग बिना किसी बाधा के इस क्षेत्र में आवजाही कर रहे हैं। गत 17 जुलाई को चार सकारात्मक मामले सामने आने पर प्रशासन ने बाजार को जोखिम क्षेत्र घोषित कर पूरी तरह सील कर दिया था। साथ ही वाहनों की आवाजाही पर भी रोक लगाई थी, जिससे उपनगर समरहिल व टुटू जाने वाले लोगों को दिक्कतें हो रही थीं। बालूगंज में जम्मू-कश्मीर से लौटा एक व्यक्ति कोरोना से संक्रमित निकला था। उसके संपर्क में आने से चार लोग भी संक्रमित हुए। शिमला के उपायुक्त अमित कश्यप ने गुरुवार को बताया कि पिछले पांच दिनों में संक्रमण का कोई मामला नहीं आने पर बालूगंज को जोखिम क्षेत्र से मुक्त कर दिया गया है तथा आज से बाजार को खोलने और वाहनों की आवाजाही की अनुमति रहेगी।उन्होंने कहा कि जो लोग कोरोना संक्रमितों के प्राथमिक संपर्क में आये हैं, उन्हें घरेलू एकांतवास में रखा गया है। उल्लेखनीय है कि शिमला जिला में पिछले कल कोरोना के 23 नए मामले दर्ज हुए हैं। इनमें 18 मामले अप्पर शिमला के रोहड़ू उपमंडल से हैं। राज्य सचिवालय में उप सचिव स्तर के एक अधिकारी के कोरोना संक्रमित पाए जाने से हड़कंप मच गया था। संक्रमित अधिकारी मुख्यमंत्री कार्यालय में तैनात है। इसके बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर घरेलू एकांतवास में चले गए। मुख्यमंत्री समेत परिवार का कोरोना परीक्षण हुआ, जिसकी रिपोर्ट देर रात नकारात्मक आई है। शिमला जिला में अब तक कोरोना के 120 मामले सामने आए हैं। हिन्दुस्थान समाचार/उज्ज्वल-hindusthansamachar.in