कांगड़ा में सामाजिक सुरक्षा पेंशन पर सालाना खर्च हो रहे हैं 90.87 करोड़ : उपायुक्त
कांगड़ा में सामाजिक सुरक्षा पेंशन पर सालाना खर्च हो रहे हैं 90.87 करोड़ : उपायुक्त
हिमाचल-प्रदेश

कांगड़ा में सामाजिक सुरक्षा पेंशन पर सालाना खर्च हो रहे हैं 90.87 करोड़ : उपायुक्त

news

धर्मशाला, 22 सितम्बर (हि.स.)। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा समाज के पिछड़े एवं कमज़ोर वर्ग के लोगों के सामाजिक एवं आर्थिक उत्थान के लिए वर्तमान कई अहम् निर्णय लिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि ज़िला कांगड़ा में इस वित्त वर्ष के दौरान पात्र व्यक्तियों की सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना पर 90.87 करोड़ रुपये की राशि व्यय की जा रही है। उपायुक्त प्रजापति ने बताया कि जिला में अब तक 1,22,045 व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के तहत् लाया गया है। इनमें 81,668 वृद्ध व्यक्तियों को वृ़द्धावस्था पेंशन योजना, 25,213 महिलाओं को विधवा पेंशन योजना, 15,068 अपंग व्यक्तियों को अपंग राहत भत्ता योजना तथा 94 कुष्ठ रोगियों एवं दो ट्रांसजेंडर को पुनर्वास भत्ता योजना में शामिल किया गया है। विभाग वृद्ध व्यक्तियों को प्रतिमाह 850 रुपये, विधवाओं को एक हज़ार रुपये, अपंग व्यक्तियों तथा कुष्ठ रोगियों और ट्रांसजेडरों को 850 रुपये प्रतिमास की दर से पेंशन प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त 70 वर्ष तथा इससे अधिक आयु के पेंशनरों को 1500 रुपये प्रतिमाह की दर से पेंशन दी जाती है। उपायुक्त प्रजापति ने बताया कि प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाएं पिछड़े एवं कमज़ोर वर्ग के लोगों के उत्थान के लिए वरदान साबित हुई हैं। इन योजनाओं की मदद से न केवल ग़रीब एवं कमज़ोर वर्ग के लोगों के जीवन में सम्मानजनक परिवर्तन आया है बल्कि उनको जीने का सम्बल भी मिला है। पिछड़े एवं ग़रीब वर्ग के परिवारों को आवास सुविधा प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा गृह निर्माण अनुदान योजना शुरू की गई है। इस योजना के अन्तर्गत पात्र परिवारों को मिलने वाली अनुदान राशि को वर्तमान सरकार द्वारा 1.30 लाख रुपये से बढ़ाकर 1.50 लाख रुपये किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र-hindusthansamachar.in