rajkot-rescued-mother-and-son-trapped-in-home-for-last-2-years
rajkot-rescued-mother-and-son-trapped-in-home-for-last-2-years
गुजरात

राजकोट: पिछले 2 वर्षों से घर में फंसे मां-बेटे को छुड़ाया

news

राजकोट/अहमदाबाद, 23 जनवरी (हि.स.)। राजकोट में एक और चौंकाने वाला मामला सामने आया है। पिछले 2 साल से घर में फंसे मां-बेटे को छुड़ाया गया है। राजकोट में एक या दो नहीं बल्कि यह तीसरी घटना है, जिसे सामाजिक संगठन 181 अभयम द्वारा जारी किया गया है। पिछले 2 वर्षों से घर में रह रहे मां-बेटे की मानसिक स्थिति खराब है। वर्तमान में दोनों को इलाज के लिए सिविल में स्थानांतरित कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार राजकोट के शक्ति एजुकेशन ट्रस्ट के पास गांधीग्राम वेलनाथ चौक गोविंदनगर गली नं 2 की सरलाबेन कांतिभाई प्रजापति पिछले 2 साल से अपने बच्चों के साथ घर पर रह रही हैं। उनके पति पिछले लंबे समय से दुबई में रह रहे हैं। संगठन से बात करने पर पता चला कि महिला की 2 साल पहले हर्निया की सर्जरी हुई थी और उसकी मानसिक स्थिति बिगड़ गई थी और परिणामस्वरूप वह अपने बिस्तर पर शौच कर रही थी। राजकोट में यह तीसरी घटना है। राजकोट में एक सेवा-उन्मुख संगठन ने 45 वर्षीय महिला को मुक्त किया है, जो पिछले दो वर्षों से एक कमरे में बंद है और उनके 13 साल के बेटे को गोद लेकर उच्च शिक्षा प्रदान करने का बीड़ा उठाया है। समाज के लोगों ने घटना की सूचना 181 और संगठन को दी और संसाठे ने कार्यकर्ता उबङ्के घर पहुंचे। सामाजिक संगठनों के लोगों ने मां-बेटे को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया है और घर की सफाई भी की। उनके 13 वर्षीय बेटे को उच्च शिक्षा भी प्रदान करेगा। इस मामले में सरलाबेन प्रजापति की स्थिति के कारण के बारे में अधिक जानकारी एकत्र की जाएगी। वर्तमान में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए संगठन आगे आ रहे हैं। हिदुस्थान समाचार/हर्ष/पारस/वीरेंद्र-hindusthansamachar.in

AD
AD