चक्रवात का दर्द अभी झेल रहा है अमरेली का राजुला-जाफराबाद पंथ

चक्रवात का दर्द अभी झेल रहा है अमरेली का राजुला-जाफराबाद पंथ
amreli39s-rajula-jafrabad-cult-is-still-experiencing-the-pain-of-cyclone

अमरेली/अहमदाबाद, 22 मई (हि.स.)। गुजरात में ताउते चक्रवात की तबाही से राज्य के तटीय इलाके के लोग अभी तक उबर नहीं पाए हैं। अमरेली जिले के राजुला-जाफराबाद पंथ में पांच दिन बाद अभी तक बिजली पानी समेत अन्य सुविधाएं अब तक बहाल नहीं हो पाई हैं। इससे स्थानीय लोगों को तमाम कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। तूफान गुजर जाने के पांच दिन बाद राजुला और जाफराबाद पंथ के लोगों को विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। प्रभावित शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के सरपंच और किसान भी जल्द बिजली आपूर्ति की मांग उठ रही है। क्योंकि बिजली की कमी के कारण लोग हर तरह की समस्याओं से जूझ रहे हैं। इस क्षेत्र में लोगों को पीने के पानी के लिए भटकना पड़ रहा है। हालांकि लोगों को प्रतिदिन टैंकरों के माध्यम से या जनरेटर के माध्यम से मोटर शुरू करके पानी की आपूर्ति की जा रही है। तूफान से क्षेत्र के कई मोबाइल टावर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। ऐसे में सबसे बड़ी समस्या नेटवर्क की है। मदद या अन्य काम के लिए किसी दूसरे शहर या गांव के लोगों से संपर्क करना हो तो लोगों को हाईवे तक जाना पड़ता है। कादियाली गांव के नेता बाबूभाई ओझा ने कहा कि बिजली आपूर्ति तत्काल शुरू की जानी चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/हर्ष शाह