update--conspiracy-to-murder-youth-congress-leader-planned-in-canada-three-arrested
update--conspiracy-to-murder-youth-congress-leader-planned-in-canada-three-arrested
दिल्ली

अपडेट... कनाडा में रची गई थी यूथ कांग्रेस के नेता की हत्या की साजिश, तीन गिरफ्तार

news

नई दिल्ली, 21 फरवरी (हि.स.)। पंजाब के फरीदकोट में यूथ कांग्रेस के नेता गुरलाल भलवान की हत्या की साजिश कनाडा में रची गई थी। बीती 18 फरवरी को नेता को फरीदकोट में हमलावारों ने गोलियां से उन्हें भून डाला था। वारदात के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अरमिंदर सिंह ने ट्वीट कर खुद व्यक्त किया था और पुलिस को निर्देश दिया था कि इस मामले में जल्दी ही आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने शनिवार देर रात हत्या में शामिल तीन आरोपितों को सराय कालें खां से गिरफ्तार किया है, जब आरोपित दिल्ली के रास्ते उत्तर प्रदेश जाने के फिराक में थे। गुरलाल भलवान जिला यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष और जिला परिषद सदस्य थे। स्पेशल सेल के डीसीपी मनीषी चंद्रा ने रविवार शाम को प्रेस वार्ता कर बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपितों की पहचान फरीदकोट निवासी गुरविंदर पाल उर्फ गोरा 32, सुखविंदर उर्फ सन्नी डिलोन 23 और सौरभ वर्मा 21 के रूप में हुई है। फिलहाल वे दो शार्प-शूटर फरार चल रहे हैं, जिन्होंने नेता को गोलियां से भूना था। इन तीनों ने कनाडा से मिले निर्देश के आधार पर दोनों को साथ लेकर गए थे और वारदात को अंजाम देने के बाद सभी लोग फरीदकोट से फरार होने में कामयाब रहे थे। आरोपी हरियाणा में साथ-साथ थे, लेकिन दिल्ली आने से पहले अलग हो गए थे। इन आरोपितों को कनाडा में बैठे बदमाश गोल्डी बरार ने निर्देश दिया था और पंजाब के गैंगेस्टर लॉरेंस विश्नोई की मदद से हत्या करवाई थी। इन आरोपियों ने बीती 18 फरवरी को उस वक्त कांग्रेस नेता की हत्या फरीदकोट में जुबली चैक के पास की थी, जब वह अपने दोस्त से मिलने के लिए उसकी दुकान पर गए थे। आरोपियों ने रैकी कर वारदात को अंजाम दिया था। लॉरेंस विश्नोई इन दिनों अजमेर जेल में अतिसुरक्षित माने जाने वाली जेल में बंद है। मनीषी चंद्रा ने बताया कि पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वे किसान आंदोलन के दौरान सिंघु बॉर्डर पर और जंतर-मंतर पर उस वक्त हत्या करना चाहते थे, जब युवा नेता पार्टी के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली आए थे। पर सुरक्षा व्यवस्था देख वह वारदात को अंजाम नहीं दे पाए। पूछताछ में पता चला है कि गोल्डी बरार का भाई चचेरा भाई गुरलाल बरार की हत्या बीती साल गैंगवार में हुई थी। इस हत्या का बदला लेने के लिए गुरलाल भलवान की हत्या की गई थी। आरोपित गुरविंदर पाल गोल्डी और गुरलाल बरार के बहनोई हैं। युवा नेता कांग्रेस के संसद घेराव के वक्त जब दिल्ली आए थे, तब भी ये आरोपित उनका पीछा कर रहे थे। उपायुक्त ने बताया कि इन आरोपियों से पूछताछ के बाद गोली चलाने वाले शार्प-शूटरों की पहचान कर ली गई है। शूटरों को संदीप उर्फ काला ने भेजा था। संदीप पर सात लाख रूपए का इनाम घोषित है। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपित झूनझूनू, सालासर और झज्जर पहुंचे, जहां से पांच दो गुटों में बंट गए। उसके बाद दिल्ली के सराय कालें खा पहुंचे, जहां से टीम ने इन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी