the-union-minister-of-state-for-home-has-given-the-green-signal-to-the-police-chariot-and-prabodhini-van
the-union-minister-of-state-for-home-has-given-the-green-signal-to-the-police-chariot-and-prabodhini-van
दिल्ली

पुलिस रथ व प्राबोधिनी वैन को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने दिखाई हरी झंडी

news

नई दिल्ली, 16 फरवरी (हि.स.)। दिल्ली पुलिस के 74वें स्थापना दिवस के खास मौके पर मुख्य अतिथि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने 'पुलिस रथ' जन संपर्क वैन और प्राबोधिनी वैन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। दिल्ली पुलिस के हर एक जिले में तीन 'पुलिस रथ' है, जो लोगों के बीच जाऐंगे। दिल्ली पुलिस इसकी मदद से पुलिस और जनता के बीच की दूरी को कम करते हुए दोस्ताना व्यवहार स्थापित करेगी। इसकी मदद से लोगों को उनके अधिकार, पुलिस के कर्तव्य और दिल्ली पुलिस की तरफ से दी जाने वाली ऑनलाइन व अन्य सेवाओं के बारे में भी बताया जाएगा। पुलिस सप्ताह 16 से 22 फरवरी तक चलेगा। इसके साथ ही पुलिस रथ की तरह ही प्रबोधिनी वाह भी लोगों के बीच जाएगा। इस पर तैनात पुलिस स्टाफ लोगों को आर्थिक अपराध, व साइबर क्राइम के प्रति जागरूक करेगा। दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने भारतीय स्टेट बैंक के साथ मिलकर नागरिकों को विभिन्न प्रकार के धोखाधड़ी के तरीकों से अवगत कराने के लिए इस वाहन को लॉन्च किया है। यह वाहन दिल्ली में स्कूलों, कॉलेजों, मॉल और अन्य भीड़ वाली जगह पर जाएगा। सेवा कर 'दिल की पुलिस' बनी दिल्ली पुलिस दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने कहा कि 24 मार्च 2020 को एक राष्ट्रव्यापी तालाबंदी की घोषणा की गई थी। जबकि साइंटिस्ट और डॉक्टरों को भी कुछ समझ नहीं आ रहा था, लोगों में खौफ था और एक दूसरे बच रहे थे। तब दिल्ली पुलिस ने फ्रंट लाइन पर रहते हुए शहर में न सिर्फ लोगों की हर संभव मदद की बल्कि जरूरतमंदो को निःशुल्क खाना पीना, मास्क आदि वितरित किए। बीमारों को अस्पताल में भर्ती कराया, लॉक डाउन में फंसे बीमार लोगों को उनके घर जाकर दवाईयां दीं। यहां तक कि अर्थी को भी कंधा दिया। इस तरह विकट परिस्थितियों में उनके सुख-दुख में साथ खड़ी पुलिस को लोगों ने 'दिल की पुलिस' का खिताब दिया। सीपी ने कहा कि जब लॉकडाउन के अनलॉक होने की प्रक्रिया शुरू हुई तो आपराधिक गतिविधियों में वृद्धि होने की उम्मीद थी। पुलिस ने रणनीति तैयार की और अपराध पर नियंत्रण पाने लिए काम किया। जिसके परिणामस्वरूप स्ट्रीट क्राइम में आधी से अधिक गिरावट आई है। कमजोर वर्गों के खिलाफ अपराध में महत्वपूर्ण गिरावट दर्ज की गई। लापता बच्चों की बरामदगी पर प्रमोशन से भी जवानों को प्रोत्साहन मिला है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी-hindusthansamachar.in

AD
AD