The decision to set up the Zarin camp in Dalli only after Urs has been planned in Ajmer: Ismaili
The decision to set up the Zarin camp in Dalli only after Urs has been planned in Ajmer: Ismaili
दिल्ली

अजमेर में उर्स का अयोजन तय होने के बाद ही दल्ली में जायरीन कैंप लगाने पर फैसलाः इस्माइली

news

- आम आदमी पार्टी अल्पसंख्यक इकाई के प्रदेश उपाध्यक्ष एफआई इस्माईली को दिल्ली उर्स कमेटी का नया चेयरमैन नियुक्त किया गया नई दिल्ली, 29 दिसम्बर (हि.स.)। आम आदमी पार्टी अल्पसंख्यक इकाई के प्रदेश उपाध्यक्ष एफआई इस्माईली को दिल्ली उर्स कमेटी का नया चेयरमैन बनाया गया है। चेयरमैन बनने के बाद इस्माईली ने हिन्दुस्थान समाचार से बातचीत में कहा कि इस साल का उर्स कोविड-19 महामारी के साये में मनाया जाएगा। अभी तक अजमेर दरगाह कमेटी की तरफ से उर्स के आयोजन को लेकर कोई फैसला नहीं किया गया है। जब तक दरगाह कमेटी कोई फैसला नहीं लेती है, तब तक हम भी दिल्ली में जायरीन कैंप लगाने से संबंधित कोई फैसला नहीं ले सकते हैं। वैसे संभावना यही जताई जा रही है कि इस वर्ष का उर्स काफी सादगी से मनाया जाएगा और उसमें बहुत ही कम जायरीन को भाग लेने की इजाजत मिलेगी। इसलिए दिल्ली सरकार भी दरगाह कमेटी के फैसले का इंतजार कर रही है। दिल्ली राज्य उर्स कमेटी का प्रमुख काम अजमेर शरीफ दरगाह पर जाने वाले जायरीन (श्रद्धालुओं) की दिल्ली प्रवास के दौरान सेवा करना है। हमारी कोशिश होगी कि उर्स में जाने वाले जायरीन को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं मुहैया कराई जाएं। दिल्ली राज्य उर्स कमेटी का गठन दिल्ली सरकार के जरिए जायरीन की खिदमत (सेवा) के लिए ही किया गया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जियारत (दर्शन) के लिए जाने वाले जायरीन की खिदमत करने की जिम्मेदारी मुझे सौंपी है। मेरी पूरी कोशिश होगी कि जायरीन को किसी भी तरह की कोई दिक्कत दिल्ली में प्रवास के दौरान पेश नहीं आने पाए। इस्माईली ने कहा कि क्योंकि अभी कोरोना काल चल रहा है, ऐसे में जियारत के लिए दिल्ली आने और यहां से अजमेर जाने वाले जायरीन को कोरोना के प्रति जागरूक करना बेहद जरूरी है। उन्हें मास्क के नियमित इस्तेमाल के साथ ही दो गज की दूरी और सैनिटाइजेशन के इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जाएगा ताकि लोग खुद को इस महामारी से बचा सकें। इस्माईली ने बताया कि अगले वर्ष फरवरी में राजधानी के बुराड़ी मैदान में उर्स कैंप की शुरुआत होने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि अजमेर स्थिति ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के दरबार में जाने से पहले जायरीन दिल्ली में मौजूद दरगाहों पर जियारत करते हुए आगे बढ़ते हैं। हमने दिल्ली की दरगाहों का दौरा करके वहां की स्थिति का जायजा लेना शुरू कर दिया है। चेयरमैन ने बताया कि क्योंकि कोरोना काल चल रहा है। इसलिए हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि सरकार की गाइडलाइन का पालन करते हुए उर्स कैंप की तैयारियां शुरू की जाए। अभी क्योंकि उर्स कैंप लगाने में समय है और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इस बार तैयारियों से संबंधित मीटिंग भी लेनी है। सीएम से दिशा निर्देश मिलने के बाद और दरगाह कमेटी से मिलने वाले दिशानिर्देश के बाद ही कोरोना गाइडलाइन के साथ ही आगे की रणनीति तैयार की जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/ एम ओवैस-hindusthansamachar.in