the-bridge-under-construction-collapsed-the-guard-died-under-the-debris
the-bridge-under-construction-collapsed-the-guard-died-under-the-debris
दिल्ली

निर्माणधीन पुल गिरा, गार्ड की मलबे में दबकर मौत

news

नई दिल्ली, 06 अप्रैल (हि.स.)। पश्चिमी दिल्ली के पंजाबी बाग गोल्डन पार्क इलाके में स्थित रेलवे का एक निर्माणधीन पुल मंगलवार सुबह अचानक गिर गया, जिसके नीचे दबकर एक अधेड़ की मौत हो गई। वहीं इस हादसे में तीन ट्रक क्षतिग्रस्त हो गए। मामले की जानकारी मिलते ही मौके पर दिल्ली पुलिस समेत दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट, दमकल विभाग, कैट्स, क्राइम टीम और एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची और राहत कार्य शुरू हुआ। इस दौरान कड़ी मशक्कत के बाद मृतक के शरीर को पुल के मलबे के नीचे से निकाला गया। फिलहाल शव को पोस्टमार्टम के लिए संजय गांधी अस्पताल के शवगृह में रखवाया गया है। पश्चिमी जिले के एडिशनल डीसीपी प्रशांत गौतम ने बताया कि मंगलवार सुबह करीब 9.30 बजे सूचना मिली कि पंजाबी बाग गोल्डन पार्क इलाके स्थित रेलवे का एक निर्माणधीन पुल अचानक गिर गया। इसके नीचे दबपर एक 50 वर्षीय अधेड़ की मौत हो गई। डीसीपी के अनुसार, घटना में मरने वाले की पहचान राम बहादुर (50) के रूप में हुई है। राम बहादुर मूलतः उत्तर प्रदेश के कानपुर का रहने वाला था और सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करता था। उसके परिवार में चार बेटियां और एक बेटा है। राम बहादुर घर में इकलौता काम करने वाला था। वही उसकी मौत से अब पूरा परिवार शोकाकुल में है और घर में मातम पसरा हुआ है। फिलहाल वह रेलवे पुल बनाने वाले ठेकेदारों द्वारा लगाया गया सिक्योरिटी गार्ड था, जो पुल के नीचे खड़े ट्रको के अंदर सो रहा था। तभी सुबह के समय यह हादसा हुआ, जहां निर्माणाधीन पुल का एक भारी-भरकम हिस्सा नीचे खड़े ट्रकों पर आ गिरा, जिसमें तीन ट्रक क्षतिग्रस्त हो गए। वही इन्हीं ट्रकों में लेटे हुए रामबहादुर की पुल के मलबे में दबकर दर्दनाक मौत हो गई। परिवार के आने के बाद पता चली घटना हालांकि मामले की जानकारी उस वक्त हुई जब मृतक अपने घर नहीं पहुंचा, जिसे ढूंढने के लिए उसके बच्चे पुल के पास पहुंचे तो उन्हें पता चला कि पुल का एक हिस्सा गिर गया है जिसके अंदर कोई व्यक्ति दबा हुआ है। ऐसे में बच्चों को आशंका हुई कि वह उन्हीं के पिता हो सकते हैं, लेकिन पुल का निर्माण कार्य करवाने वाले ठेकेदारों व कर्मचारियों ने रामबहादुर के होने की आशंका से साफ इनकार किया। वहीं जब बच्चों ने पास जा कर देखा तो उन्होंने अपने पिता को पहचान लिया। ऐसे में मामले की जानकारी मिलते ही मौके पर दिल्ली पुलिस समेत सभी टीमें मौके पर पहुंची और तुरंत राहत कार्य शुरू किया। जहां कड़ी मशक्कत के बाद मृतक रामबहादुर के शव को पुल के मलबे के नीचे से निकाला गया। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी