सरकारी अस्पतालों और कोविड केंद्रों को दी जाने लगी जब्त की गई जीवन रक्षक दवाएं

सरकारी अस्पतालों और कोविड केंद्रों को दी जाने लगी जब्त की गई जीवन रक्षक दवाएं
seized-life-saving-medicines-given-to-government-hospitals-and-kovid-centers

नई दिल्ली,03 मई (हि.स.)। कोरोना महामारी के दौरान कालाबाजारी में जब्त की गई जीवन रक्षक दवाएं और अन्य सामान को पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद सरकारी अस्पतालों और कोविड केयर सेंटर्स को देना शुरू कर दिया है। पिछले दिनों कोर्ट ने आदेश दिया था कि जब्त की गई जीवन रक्षक दवाईयों, ऑक्सीजन सिलिंडर और उपकरणों को इमरजेंसी हालात मरीजों के इस्तेमाल के लिए पुलिस अस्पतालों को दे। इसी कड़ी में पुलिस ने सोमवार को भारी मात्रा में जब्त इंजेक्शन, दवाईयां, ऑक्सीजन सिलिंडर व उपकरणों को अस्पतालों को पहुंचा दिया। दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि आगे भी यह सिलसिला जारी रहेगा। दिल्ली पुलिस प्रवक्ता चिन्मय बिश्वाल ने बताया कि 86 रेमडेसिविर इंजेक्शन को संजय गांधी अस्पताल, अंबेडकर अस्पताल, दीपचंदबंधु अस्पताल, पार्क अस्पताल, कैलाश अस्पताल, सीडीएमओ, तेरापंत छतरपुर, रोहिणी कोविड केयर सेंटर और डीडीएमए नॉर्थ को दिए गए। इसके अलावा 90 फेबिपिरावर गोलियों को दीपचंद बंधु अस्पताल को दिया गया। वहीं 100 रेमडेसिविर इंजेक्शन अभी देने की प्रक्रिया जारी है। इसके अलावा पुलिस के पास से जब्त किए गए 190 रेमडेसिविर इंजेक्शन नकली मिले हैं। प्रवक्ता ने बताया कि 70 ऑक्सीजन सिलिंडर को छोड़ा गया। इनको डीडीएमए वेस्ट, सीडीएमओ तेरापंत अंसारी अस्पताल, वर्ल्ड ब्रेन सेंटर अस्पताल, आर्या अस्पताल, भगतचंद्र अस्पताल दक्षिण-पश्चिम में भेजा गया। 140 सिलिंडर को छोड़ने की प्रक्रिया अभी जारी है। चिन्मय बिश्वाल ने बताया कि उत्तरी जिला पुलिस द्वारा जब्त किए गए 170 ऑक्सीजन कन्संट्रेटर को भी रिलीज कर दिया गया। इनमें 60 को एम्स को सौंप दिया गया है, 40 सीएपीएफ अस्पताल और बाकी कोविड केयर सेंटर को सौंप दिया गया। बाहरी-उत्तरी जिला पुलिस द्वारा जब्त किए गए कन्संट्रेटर को छोड़ने की प्रक्रिया जारी है। इसी तरह पुलिस ने 66 ऑक्सीजन फ्लोमीटर, 24 ऑक्सीजन रेग्यूलेटर और 36 पल्स ऑक्सीमीटर को भी छोड़ा है। 18 ऑक्सीजन पंप और 28 ऑक्सीजन फ्लो मीटर को छोड़ने की प्रक्रिया जारी है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी