हरियाणा-राजस्थान और उत्तराखंड के अब काला जठेड़ी गैंग की दिल्ली में बारी

हरियाणा-राजस्थान और उत्तराखंड के अब काला जठेड़ी गैंग की दिल्ली में बारी
now-kala-jathedi-gang-of-haryana-rajasthan-and-uttarakhand-turn-up-in-delhi

नई दिल्ली, 22 मई (हि.स.)। राजधानी दिल्ली में नीरज बवाना और जितेन्द्र उर्फ गोगी के बाद अब अपना वर्चस्व बढ़ाने के लिए काला जठेड़ी राजधानी में अपने पैर पसार रहा है। अपराधी की बात करे तो अकेले हरियाणा में सात लाख का इनाम इसके इसके उपर है। दिल्ली-हरियाणा-राजस्थान और उत्तराखंड में इसके गुर्गे लगातर वारदात को अंजाम दे रहे हैं और उसकी जिम्मेदारी भी ले रहे हैं। काला जठेड़ी लॉरेंस बिश्नोई गैंग का वर्तमान में मुखिया है और विदेश में रहकर भारत में वारदात को अंजाम दिलावा रहा है। पुलिस की मानें तो राजधानी में नीरज बवाना समेत जितेन्द्र उर्फ गोगी भी गैंगेस्टर है, लेकिन वह सब अभी जेल में बंद है। इसलिए काला जठेड़ी दिल्ली में अपना वर्चस्व बढ़ाने में जुटा है। पुलिस का मानना है कि काला जठेड़ी इस समय विदेश में ही होगा, क्योंकि काला और बिश्नोई की मुलाकात करवाने वाला नजफगढ़ का कुख्यात बदमाश कपिल सांगवान उर्फ नंदू भी इन दिनों लंदन में बैठकर ही गिरोह चला रहा है। उसके बाद से ही दोनों ने अपराध की दुनिया में तहलका मचा रखा है। तेजी से बढ़ रहा काला जठेड़ी गैंग काला जठेड़ी गैंग दिल्ली में बहुत तेजी से बढ़ रहा है। इस बात को पुलिस भी मान रही है। पुलिस अधिकारी की माने तो पहले इनका बेस कैंप हरियाणा था। जैसे-जैसे इनके साथ बदमाश जुड़ते गए। इनके अड्डे पंजाब, राजस्थान, हिमाचल और अब दिल्ली बन गया है। यहां दिल्ली में इन्होंने हत्याओं की 10 वारदातों को अंजाम दिया है। इस गैंग का सरगना संदीप उर्फ काला जठेड़ी हरियाणा के सोनीपत का रहने वाला है। 12वीं कक्षा तक पढ़ने के बाद वह केबल ऑपरेटर का काम करता था। जून 2009 में उसने रोहतक में लूट के दौरान हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। इसके बाद रंजिश के चलते मार्च 2010 में सोनीपत के गोहाना में उसने हत्या को अंजाम दिया। कुछ ऐसा ही मिलती जुलती कहानी लॉरेंस बिश्नोई की भी है। वह भी इस गैंग का मालिक है। लॉरेंस बिश्नोई और काला जठेड़ी नाम से फेसबुक पेज भी बना हुआ है। इस पेज पर वह गैंग द्वारा किये गए अपराध को अपडेट करते थे। जेल में पेशी से लेकर किसी अन्य जगह पर जाने का वीडियो भी वह फेसबुक पेज पर अपडेट करते है। लोगों के बीच दहशत फैलाने के लिए वह हत्या के कुछ वीडियो भी वायरल करते थे। जबरन उगाही के लिए जब वह गोली चलाते तो इसकी वीडियो भी बनाते है। इस गैंग में 100 से भी ज्यादा बदमाश हैं। जिसकी वजह से गैंग पर पूरी तरह लगाम लगाना पुलिस के लिए आसान नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी

अन्य खबरें

No stories found.