डीटीसी कर्मचारियों को स्थाई करने की मांग को लेकर 24 और 25 जुलाई को प्रदर्शन करेगा डीपीएमएस
डीटीसी कर्मचारियों को स्थाई करने की मांग को लेकर 24 और 25 जुलाई को प्रदर्शन करेगा डीपीएमएस
दिल्ली

डीटीसी कर्मचारियों को स्थाई करने की मांग को लेकर 24 और 25 जुलाई को प्रदर्शन करेगा डीपीएमएस

news

नई दिल्ली, 17 जुलाई (हि.स.)। दिल्ली परिवहन मजदूर संघ (डीपीएमएस) दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) के निजीकरण के खिलाफ और अनुबंधित कर्मचारियों को स्थाई करने समेत अन्य प्रमुख मांगों को लेकर आगामी 24 और 25 जुलाई को प्रदर्शन करेगा। संगठन ने शुक्रवार को इस संदर्भ में राज्य के परिवहन मंत्री और डीटीसी के प्रबंध निदेशक को चार पृष्ठ का पत्र भेजा है। पत्र में उन सभी समस्याओं का उल्लेख किया गया है जिसके कारण संगठन को डीटीसी और उसके कर्मचारियों के हित में प्रदर्शन करने का फैसला करना पड़ा है। डीपीएमएस के महामंत्री कैलाश चन्द मलिक ने शुक्रवार को हिन्दुस्थान समाचार के साथ बातचीत में बताया कि 24 जुलाई को अपराह्न 3 बजे डीटीसी के आई.पी. मुख्यालय के सामने अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन किया जाएगा। अगले दिन यानी 25 जुलाई को नन्द नगरी डिपो, हरिनगर, द्वारका-2, कालकाजी, हसनपुर, अंडर हिल रोड और वसंत विहार डिपो के सामने प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम कार्मिक नीति बनाने की भी मांग कर रहे हैं। डीटीसी की कोई कार्मिक नीति नहीं होने का दंश कर्मचारियों को झेलना पड़ता है। कई कर्मचारी ऐसे भी हैं जो 38 से 40 वर्ष की बेदाग नौकरी करने के बाद भी उसी पद से रिटायर हुए जिस पद पर भर्ती हुए थे। उन्होंने कहा कि कर्मचारी को पूरे सेवाकाल में कम से कम दो प्रमोशन का लाभ मिलना चाहिए। इसके मद्देनजर हमारी मांग है कि कर्मचारियों के हित में कार्मिक नीति बनाई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि हम डीटीसी के निजीकरण के खिलाफ हैं। डीटीसी का निजीकरण न तो उसके कर्मचारियों के हित में है और न ही यात्रियों के हित में है। इसके अलावा हमारी प्रमुख मांगों में डीटीसी में ठेकेदारी प्रथा बंद करने, अस्थाई कर्मचारियों को स्थाई करने और डीटीसी बसों की संख्या बढ़ाना शामिल है। मलिक ने बताया कि इस समय डीटीसी के पास कुल 3775 बसें हैं। इसमें से 159 बसों की हालत खराब है। सामान्य दिनों में दिल्ली में बढ़ रही यात्रियों की भीड़ को देखते हुए डीटीसी के बसों की संख्या में बढ़ोतरी करना समय की मांग है। उल्लेखनीय है कि दिल्ली में डीटीसी और एफसीएमएस के द्वारा बसों का संचालन होता है। डीटीसी के पास जहां बसों की संख्या 3775 है वहीं एफसीएमएस द्वारा संचालित बसों (ऑरेंज कलर) की संख्या 2300 है। हिन्दुस्थान समाचार/पवन-hindusthansamachar.in