तिहाड़ जेल में बढ़ा कोरोना संक्रमण

तिहाड़ जेल में बढ़ा कोरोना संक्रमण
corona-infection-increased-in-tihar-jail

नई दिल्ली, 14 अप्रैल (हि.स.)। दिल्ली समेत देश के कई राज्यों कोरोना से हहाकार मच गया है। दिल्ली के तिहाड़ जेल भी इससे अछूती नहीं रह गई है। मार्च माह में जेल के भीतर कोरोना संक्रमितों का अंकड़ा जहां सिंगल डिजीट में पहुंच गया था, उसमें अब तेजी से इजाफा हुआ है। कोरोना की मार से कैदी, जेल स्टाफ यहां तक के डॉक्टर भी अछूते नहीं रहे गए हैं। जेल प्रशासन की मानें तो मौजूदा समय में 67 कैदियों समेत कुल 78 लोग अभी कोरोना पॉजिटिव हैं। इनमें 11 जेल का स्टाफ जिसमें तिहाड़ जेल के दो डॉक्टर व मंडोली जेल की एक जेल सुपरिटेंडेंट भी शामिल हैं। सभी एक्टिव मरीजों को क्वारंटीन कर उनका इलाज किया जा रहा है। जेल प्रशासन का कहना है कि कोरोना से निपटने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं जल्द ही इस पर काबू पा लिया जाएगा। जेल के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि भारत में कोरोना की शुरूआत के साथ ही तिहाड़ जेल में अब तक 190 कैदी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। वहीं जेल कर्मचारियों का आंकड़ा 304 तक जा पहुंचा था। 67 कैदियों को छोड़कर बाकी सभी रिकवर हो चुके हैं। वहीं जेल का भी 11 स्टाफ संक्रमित है, बाकी सभी ठीक हो चुके हैं। जेल के अधिकारियों ने बताया कि वर्ष 2020 में कोरोना की वजह से दो कैदियों की मौत भी हुई थी। इस साल अभी तक जेल में कोरोना से कोई मौत दर्ज नहीं की गई। दिल्ली में कोरोना की रफ्तार कम हुई थी तो मार्च 2021 तक कोरोना संक्रमितों का आकंड़ा जेल में सिंगल डिजीट में आ गया था। लेकिन अचाने दो अप्रैल के बाद जेल में संक्रमितों की संख्या में इजाफा होने लगा। 12 अप्रैल तक 59 कैदी कोरोना संक्रमित हो चुके थे। 14 अप्रैल की ताजा रिपोर्ट के अनुसार अब 67 कैदी और जेल का 11 स्टाफ कोरोना संक्रमित रह गया है। मंडोली जेल की जेल नंबर-12 की सुपरिटेंडेंट भी कोरोना की चपेट में आ गई हैं। जेल अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली की सभी जेलों पर लोड बहुत अधिक है। तिहाड़ जेल में तो क्षमता के हिसाब से दोगुने से भी ज्यादा कैदी है। बावजूद इसके कोरोना पर काबू पाने के प्रयास जारी हैं। तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल ने बताया कि कोरोना की रफ्तार पर ब्रेक लगाने के लिए जेल प्रशासन हर संभव प्रयास कर रहा है। जेल में होने वाली मिलाईयों को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा कैदियों को जागरुक करने के लिए जेल में कार्यक्रम भी आयोजन किए जा रहे हैं। इसके साथ ही कैदियों को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ रहने के लिए कहा जा रहा है। जेल में कैदियों की संख्या एक बड़ी चुनौती है। जेल प्रशासन अपनी ओर से कोरोना से बचाव के हर संभव प्रयास कर रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी