आम आदमी पार्टी ने वैक्सीनेशन की कमी को लेकर केंद्र सरकार पर लगाये गंभीर आरोप

आम आदमी पार्टी ने वैक्सीनेशन की कमी को लेकर केंद्र सरकार पर लगाये गंभीर आरोप
aam-aadmi-party-made-serious-allegations-against-central-government-for-lack-of-vaccination

नई दिल्ली,24 मई (हि. स.)। आम आदमी पार्टी ने कोरोना वैक्सीनेशन में हो रही देरी पर केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। इसके साथ पार्टी ने गंभीर आरोप लगाए हैं। पार्टी का कहना है कि केंद्र सरकार को लोगों की जान की परवाह नहीं है वो मात्र दो कंपनियों का मुनाफा चाहती है । यही वजह है कि सरकार ने दूसरी कंपनियों को भारत में वैक्सीन लगाने की अनुमति नहीं दी है। आम आदमी पार्टी के विधायक और प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज कोरोना से स्वस्थ होकर सोमवार को लंबे समय के बाद मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि ' आज मेरी नकारात्मक बात करने का मन तो नहीं है लेकिन मजबूरी में करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि 'विश्व भर की सरकारें अपने नागरिकों के लिए सालभर पहले जब वैक्सीन खरीद रही थी तो हमारे देश की सरकार क्या कर रही थी। एक आकड़ें के मुताबिक आज अमेरिका में 100 में से 87 लोग वैक्सीन पा चुके हैं वहीं हमारे देश में 100 में से मात्र 13 लोग वैक्सीन पाए हैं।' उन्होंने आगे कहा कि यहां सवाल ये आता है कि हमारे देश की सरकारों ने देश मे वैक्सीनेशन क्यों नहीं करवाया। आप किसी भी तरह की वैक्सीन का नाम लीजिए आपको सभी दवाएं मेडिकल शॉप पर मिल जाएगी सरकार किसी पर कोई नियंत्रण नहीं लगती है। लेकिन कोरोना महामारी में सरकार ने केवल दो कम्पनियों को इजाजत दी कि वो देश के अंदर वैक्सीन बनाकर बेच सकते हैं। पहली भारत बॉयोटेक और दूसरी सीरम इंस्टीट्यूट। लेकिन दुनिया की बड़ी बड़ी कम्पनियों को भारत में आने ही नहीं दिया। जबकि फाइजर के टीके को 85 देशों की इजाजत है। मोडर्ना में 46 देशों को इजाजत है। जॉनसन एन्ड जॉनसन के टीके 41 देशों में मान्य हैं लेकिन भारत में इसे मान्यता नहीं है। इसका सीधा सा मतलब ये है की केंद्र सरकार भारत बॉयोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट ही हिंदुस्तान के अंदर मुनाफा कमाने देना चाहती है। आम आदमी पार्टी का ये भी आरोप है कि केंद्र सरकार की शह पर भारत में मिल रही वैक्सीन को देश के प्राइवेट अस्पतालों में ऊंचे दामों में बेचा जा रहा है। सरकार की तरफ से फ्री में मिलने वाली वैक्सीन आज निजी अस्पतालों में एक हजार से 12 सौ में वैक्सीन मिल रही है। इस तरह से वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां अपने स्तर पर मोटा मुनाफा कमा रही हैं। इससे पहले आज ही उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी केंद्र सरकार से दूसरे देशों की वैक्सीन को भारत में लाने के लिए केंद्र सरकार से अनुरोध किया है। और इसपर हो रही राजनीति पर विराम लगाने की बात भी कही है। हिन्दुस्थान समाचार/ श्वेतांक