सरकार का आदेश, दिल्ली में कोई भी स्कूल नहीं बढ़ा सकता फीस
सरकार का आदेश, दिल्ली में कोई भी स्कूल नहीं बढ़ा सकता फीस
दिल्ली

सरकार का आदेश, दिल्ली में कोई भी स्कूल नहीं बढ़ा सकता फीस

news

नई दिल्ली, 10 सितम्बर (हि.स.)। दिल्ली सरकार ने संस्कृति स्कूल को जो फीस बढ़ाने की अनुमति दी थी उसे आज वापस ले लिया गया है। यह जानकारी दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने दी है। उन्होंने कहा कि महामारी के इस दौर में दिल्ली सरकार ने आदेश दिया है कि कोई स्कूल फीस नहीं बढ़ा सकता है और ट्यूशन फीस के अलावा कोई फीस नहीं लेगा, अगर कोई फीस बढ़ता है तो कार्रवाई होगी। सिसोदिया ने गुरुवार को पत्रकार वार्ता में बताया कि संस्कृति विद्यालय के छात्रों के माता-पिता आज मुझसे मिले। पिछले कुछ महीनों में, वे मुख्यमंत्री और मुझसे कई बार मिले हैं। उन्होंने कहा कि स्कूल ने पिछले कुछ महीनों में अपनी फीस 83 प्रतिशत बढ़ा दी है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने निर्देश दिया कि फीस बढ़ाने के लिए स्कूल को दी गई अनुमति को निरस्त कर दिया जाए। इसके लिए आदेश जारी कर दिए गए हैं। महामारी के इस दौर में दिल्ली सरकार ने आदेश दिए हुए हैं कि कोई स्कूल फीस नहीं बढ़ा सकता है और ट्यूशन फीस के अलावा कोई फीस नहीं लेगा। फीस बढ़ाने वाले सभी स्कूलों पर कार्रवाई होगी। सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली सरकार ने चाणक्यपुरी के नामी स्कूल संस्कृति स्कूल को महामारी से पहले फीस बढ़ाने की अनुमति दी थी। लेकिन पैरेंट्स की लगातार मिल रही शिकायतों के बाद जब दिल्ली सरकार ने जांच की, तो पाया कि इस स्कूल ने अपने अकाउंट्स का ऑडिट नहीं कराया। 2017-18 के अकाउंट के हिसाब से इस स्कूल के पास सरप्लस पैसा था, तो ऐसे में फीस बढ़ाने की क्या जरूरत है? संस्कृति स्कूल ने 83 प्रतिशत फीस बढ़ा दी थी। जिसको दिल्ली सरकार ने रद्द कर दिया है। हिन्दुस्थान समाचार /प्रतीक खरे-hindusthansamachar.in