काॅलेजों में फंड का किया जा रहा दुरुपयोग : सिसोदिया
काॅलेजों में फंड का किया जा रहा दुरुपयोग : सिसोदिया
दिल्ली

काॅलेजों में फंड का किया जा रहा दुरुपयोग : सिसोदिया

news

नई दिल्ली, 16 सितम्बर (हि.स.)। दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय के 12 कालेज राज्य सरकार के फंड का दुरुपयोग कर रहे हैं। कोरोना संक्रमण के कारण अपने आवास पर क्वारंटीन, सिसोदिया ने बुधवार को ट्विटर पर अपलोड वीडियो में कहा है कि दिल्ली सरकार दिल्ली विश्वविद्यालय के 12 कॉलेजों को फंड देती है। सरकार पांच साल में दोगुना सैलरी ग्रांट इन कॉलेज को देती आई है। सरकार की तरफ से काफी पैसा दिए जाने के बावजूद पैसा कहीं और खर्च कर टीचर्स को सैलरी नहीं दी जा रही। काॅलेजों में फंड का दुरुपयोग किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमने काॅलेजों का ऑडिट कराया। 6 काॅलेजों में शुरुआती जांच में सामने आया है कि फंड न होने का दावा करने वाले काॅलेजों ने गैरकानूनी ढंग से करोड़ों रुपये एफडी में जमा कर रखा है और वहीं पैसे को मनमाने तरीके से लगाया जा रहा है, जो कि अपराध है। उल्लेखनीय है कि दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के कुछ टीचर्स को चार महीने से वेतन नहीं मिला जिस वजह से उनको घर चलाना बहुत मुश्किल हो गया है। ऐसे में उन टीचर्स ने मंगलवार को दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर कर अपील की है कि वह कॉलेजों को बीते चार महीने का उनका बकाया वेतन देने का निर्देश दे। विश्वविद्यालय से संबद्ध ये 12 कालेज दिल्ली सरकार द्वारा 100 फीसदी वित्त पोषित हैं। याचिका पर 17 सितंबर को सुनवाई हो सकती है। इसमें कहा गया है कि इन शिक्षकों के अलावा अन्य शैक्षणिक और गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों को भी मई, जून, जुलाई और अगस्त का वेतन नहीं मिला है। आठ शिक्षकों ने दायर याचिका में कहा है कि वे दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के सदस्य हैं। उन्होंने परेशान कर्मचारियों की ओर से दिल्ली सरकार को पत्र लिखा है कि वह उसके द्वारा वित्तपोषित डीयू के 12 कॉलेजों के 1,500 कर्मचारियों के वेतन के भुगतान के लिये फंड जारी करे। याचिका में कहा गया है कि शिक्षकों के वेतन का भुगतान नहीं होने के चलते वे और 12 कॉलेजों में कार्यरत अन्य कर्मचारी कई प्रकार की समस्याओं का सामना कर रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/प्रतीक खरे-hindusthansamachar.in