आम आदमी पार्टी ने भ्रष्टाचार की पोल खोलने के लिए शुरू किया अभियान
आम आदमी पार्टी ने भ्रष्टाचार की पोल खोलने के लिए शुरू किया अभियान
दिल्ली

आम आदमी पार्टी ने भ्रष्टाचार की पोल खोलने के लिए शुरू किया अभियान

news

नई दिल्ली, 21 नवम्बर (हि.स.)। आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने शनिवार को भाजपा शासित एमसीडी में फैले भ्रष्टाचार पर सीरिज की शुरुआत करते हुए कहा कि भाजपा की एमसीडी बार-बार पैसे की कमी का रोना रोती है, लेकिन वो सभी लोगों से प्राॅपर्टी टैक्स नहीं वसूलती। भाजपा की स्कीम है, ‘निरीक्षण करो, नोटिस दो, डराओ-धमकाओं, लेकिन प्रापॅटी टैक्स न वसूलो।’ दिल्ली में सबसे महंगी प्रॉपर्टी होने के बावजूद आज एमसीडी का बुरा हाल हैं, लेकिन भाजपा के पार्षद मालामाल हैं, क्योंकि इसका पैसा पार्षदों की जेब में जाता है। भारद्वाज ने कहा कि 2015 में आम आदमी पार्टी की सरकार बनी थी, तब दिल्ली सरकार की आमदनी 30 हजार करोड़ थी और चार साल बाद दिल्ली सरकार की आमदनी दोगुनी हो गई। वहीं, भाजपा की एमसीडी ने 2015-16 में 3,95,319 व 2016-17 में 4,41,889 लोगों से प्राॅपर्टी टैक्स वसूला, लेकिन 2017-18 में इनकी संख्या घट गई और 4,05,774 लोगों से ही टैक्स वसूला। इसी तरह, एमसीडी का प्राॅपर्टी टैक्स कलेक्शन 2015-16 में 366 करोड़ 2016-17 में 614 हुआ, लेकिन 2017-18 में यह घट कर 553 करोड़ पर आ गया जबकि सरकारों का टैक्स कलेक्शन बढ़ता है। भाजपा नेता बताएं कि दिल्ली वालों का पैसा कहां जा रहा है? भारद्वाज ने कहा कि 2017 में दिल्ली में हुए निगम के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी इस बात को भलीभांति जानती थी कि दिल्ली के लोग भारतीय जनता पार्टी के तमाम निगम पार्षदों के भ्रष्टाचार से परेशान हैं और जनता भाजपा के निगम पार्षदों का चेहरा भी नहीं देखना चाहती। इसी बात को ध्यान में रखते हुए भाजपा ने नए चेहरे नई उड़ान के नारे के साथ उस समय के तमाम निगम पार्षदों के टिकट काट दिए थे और नए चेहरों को चुनाव में उतारा था। भाजपा के शीर्ष नेताओं का फोटो लगाकर चुनाव लड़ा गया था और जनता ने एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी की बात पर भरोसा करते हुए, 181 निगम पार्षद जीता कर भाजपा को निगम की सत्ता सौंपी। उन्होंने कहा कि पिछले 15 सालों से दिल्ली के तीनों निगमों में भारतीय जनता पार्टी की सरकार स्थापित है। बीते चुनाव में जनता ने कुछ बेहतर होगा, यह सोचकर भारतीय जनता पार्टी को एक बार फिर निगम की सत्ता सौंपी। परंतु इस बार भारतीय जनता पार्टी के जो निगम पार्षद जीतकर सत्ता में आए उन्होंने पिछले वालों के भ्रष्टाचार का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया। उन्होंने कहा कि इस बार निगम में भारतीय जनता पार्टी के 181 निगम पार्षद जीत कर आए हैं और इन निगम पार्षदों ने भ्रष्टाचार को चरम सीमा तक पहुंचा दिया है। हम सिलसिलेवार तरीके से इन 181 पार्षदों को ध्यान में रखते हुए भारतीय जनता पार्टी द्वारा किए गए भ्रष्टाचार की एक श्रृंखला इसी प्रकार से मीडिया के माध्यम से जनता के सामने रखेंगे। हम लगभग प्रतिदिन एक प्रेस वार्ता के माध्यम से भारतीय जनता पार्टी द्वारा निगम में किए गए एक-एक भ्रष्टाचार का खुलासा करेंगे और इस श्रंखला को हमने भाजपा 181 का नाम दिया है। मीडिया के माध्यम से प्रश्न पूछते हुए सौरभ भारद्वाज ने कहा कि भाजपा के सांसद मनोज तिवारी जी एवं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता जी बताएं कि यह जेब किसकी है? मीडिया के माध्यम से भारतीय जनता पार्टी के नेताओं को चुनौती देते हुए सौरभ भारद्वाज ने कहा कि यदि मैं झूठ बोल रहा हूं तो भाजपा के लोग मुझ पर मुकदमा दायर करें, मैं कोर्ट के समक्ष भी अपनी बात को साबित कर दूंगा। हिन्दुस्थान समाचार /प्रतीक खरे-hindusthansamachar.in