बढ़ती इंसानी गतिविधियों के बीच अंटार्कटिका की संवेदनशील पारिस्थितिकी को गैर देशी प्रजातियों से खतरा

बढ़ती इंसानी गतिविधियों के बीच अंटार्कटिका की संवेदनशील पारिस्थितिकी को गैर देशी प्रजातियों से खतरा
बढ़ती-इंसानी-गतिविधियों-के-बीच-अंटार्कटिका-की-संवेदनशील-पारिस्थितिकी-को-गैर-देशी-प्रजातियों-से-खतरा

(डाना एम बर्गस्ट्रॉम, प्रिंसिपल रिसर्च साइंटिस्ट, यूनिवर्सिटी ऑफ वोलोंगांग एवं शावॉन डोनोगहुए, एडजंक्ट रिसर्चर, यूनिवर्सिटी ऑफ तस्मानिया) होबार्ट, 20 नवंबर (द कन्वरसेशन) अंटार्कटिका के बारे में सामान्य तौर पर हम यह सोचते हैं कि यह अलग-थलग और दूरदराज का स्थान है, जैविक रूप से कहें तो यह सच है। लेकिन क्लिक »-www.ibc24.in

अन्य खबरें

No stories found.